Free Porn
xbporn

Admin

Harigovind Vishwakarma is basically a Mechanical Engineer by qualification. With an experience of over 30 years, having worked in various capacities as a journalist, writer, translator, blogger, author and biographer. He has written two books on the Indian Prime Minister Narendra Modi, ‘Narendra Modi : Ek Shakhsiyat’, detailing his achievements as the Gujarat chief minister and other, ‘Narendra Modi: The Global Leader’. ‘Dawood Ibrahim : The Most Wanted Don’ is another book written by him. His satires are regularly published in prominent publications.

Posts

518 POSTS

Comments

2 COMMENTS

Social

डॉ. मधुबाला शुक्ल ‘हंगल साहब, जरा हँस दीजिए’ हरि मृदुल जी का पहला कहानी संग्रह है। इस कहानी संग्रह में लघु-बृहद मिलाकर कुल 20 कहानियों...
संवाददाता मुंबई, चित्रनगरी संवाद मंच मुंबई के साहित्यिक परिचर्चा में वरिष्ठ कथाकार सूरज प्रकाश, निर्देशक राजशेखर व्यास और गीतकार देवमणि पांडेय की उपस्थिति में कवयित्री...
एडवोकेट अशोक सारावगी ने कहा कि वह शिनोवा अदालत से न्याय दिलवाएंगे अभिनेता और भाजपा सांसद रवि किशन शुक्ला कांग्रेस नेता स्वर्गीय नारायण दत्त तिवारी...
मुंबई। हर सप्ताह की तरह इस बार भी रविवार की शाम ख़ुशगवार रही जब शहर की महिला शायरात और कवयित्रियों ने मशहूर कथाकार सूरज...
कच्चाथीवू द्वीप के बदले वेज बैंक मिल चुका है भारत को भारत को यह मान लेना चाहिए कि चीन हमारा पाकिस्तान से भी ख़तरनाक दुश्मन...
योगी-काल में पहले मुन्ना बजरंगी, विकास दुबे, अतीक अहमद और अब मुख़्तार सुभान अंसारी का अंत संसार में शहंशाह कोई नहीं, बस समय शहंशाह होता...

Recent posts

आज से किसी धोखेबाज या ठग को 420 नहीं कह सकेंगे

अगर आप भारत में रहते हैं तो आज से आपको अपनी क़ानून की भाषा बदल देनी होगी। जी हां, आज से आप किसी धोखेबाज...

शाम-ए-मुंबई भी कम खूबसूरत नहीं

यूं तो दुनिया भर में सुबह-ए-बनारस, शाम-ए-अवध और शब-ए-मुंबई की चर्चा ख़ूब होती है। लेकिन शाम-ए-मुंबई भी कम खूबसूरत नहीं होती। ख़ासकर अरब सागर...

समय बलवान

समय बलवान हरिगोविंद विश्वकर्मा नहीं शाश्वत यहां कुछ भी निश्चित है अंत हर चीज़ का किसी को भी नहीं समझना चाहिए ख़ुद को स्थायी यहां जब मानव नहीं हरा पाता जिस व्यक्ति को तब उसे...

फलों की रानी लीची

प्रकृति के ख़ज़ाने में कई ऐसे पौधे हैं जो किसी वरदान से कम नहीं। ये पौधे ऐसे फल देते हैं जो फल तो हैं...

गर्व से कहो हम चमचे हैं!

यह चमचायुग है। कलियुग तो कब का ख़त्म हो चुका। उसके ख़त्म होते ही चमचायुग शुरू हुआ। कलियुग के बाद सतयुग को आना था।...

Recent comments