बेहतर दुनिया के लिए संघर्ष का आह्वान करती हैं डॉ अलका प्रकाश की कविताएं

0
1427
कामता प्रसाद

इंतज़ार जीवन की उम्मीद है
उम्मीद में है दुनिया
और जब तक इंतज़ार है
हम नाउम्मीद होने से बचे रह सकते हैं

उपर्युक्त पंक्तियाँ कवयित्री डॉ. अलका प्रकाश के काव्य संग्रह देह और प्रज्ञा के बीच में शामिल इंतज़ार नहीं होता महज़ एक शब्द नामक कविता से ली गई हैं। कवयित्री के मनोजगत में बेहतर दुनिया के लिए संघर्ष का आह्वान तो है ही, साथ ही वह सुबह कभी तो आएगी, इसका इंतज़ार भी है। बसंत में फूल खिलेंगे ही, दुनिया सुंदर बनेगी ही, मज़दूर वर्ग लड़ेगा और जीतेगा ही, यह तो हमारी चाहत है अनिवार्य भविष्य तो नहीं। लेकिन इस कविता में कहा गया है कि हो सकने का होने की तरह इंतज़ार जीवन की उम्मीद है।

औरत का मर्सिया इस संकलन की पहली कविता है। प्राचीन भारत की कथाओं के जरिए स्त्री-पराधीनता का चित्र प्रस्तुत करते हुए समकालीन विमर्श भी प्रस्तुत किया गया है। मनोविज्ञान के हिसाब से सामूहिक अवचेतन को समझने की बात कही गई है और अंत में संघर्ष का आह्वान भी है और अपनी निष्क्रियता को लेकर कुढ़न भी।

सिर्फ़ सवाल नहीं में कवियत्री का कहना है कि नहीं रहीं स्थितियाँ हमारे अनुकूल, होना होगा हमें ख़ुद प्रतिकूल। सिर्फ़ सवाल नहीं, चाहिए कुछ जवाब भी। यह कविता स्त्रियों को बाग़ी बनने के लिए कहती है और ज़ाहिर है कि वैचारिकी के बिना बग़ावत अंधी खाई तक ले जाती है तो यहाँ पर परोक्ष रूप से सुंसगत होने का आह्वान भी है।

अविवाहिता अपने देश-काल में घर-गृहस्थी के सुख, मातृत्व की अहमियत की पृष्ठभूमि में स्त्री के अकेलेपन को स्वर देने की कोशिश की गई है। समाजवाद में क्या होगा, इसके इंतज़ार में पूरा जीवन तो नहीं गुजारा सकता और अगर गुजारा जाएगा तो वह तो दयनीय होगा ही।

कस्बाई लड़की में कहा गया हैः दूसरों के दिमाग के घुन निकालते-निकालते, फँसती गई ख़ुद मकड़जाल में, बाजार और समाज के। स्त्री को स्त्री की नज़र से देखने की कोशिश की है। मर्दवादी सामाजिक संरचना और मानसिक बनावट-बुनावट को लेकर आक्रोश भी है और निरुपायता भी।

देह और प्रज्ञा के बीच जैसे माओत्से तुंग ने चीन के प्राचीन वांग्मय का गहन अध्ययन कर रखा था, वैसे ही इस कविता में प्राचीन भारतीय मिथकों का ख़ूब प्रयोग हुआ है। यहाँ द्वंद्वात्मकता का अभाव स्पष्ट रूप से झलकता है। सोच में इकहरापन-यांत्रिकता हावी है। आत्मिक-सांस्कृतिक रिक्तता पर बिसूरते हुए भौतिकता को महत्वहीन बताने तक जाने की प्रवृत्ति नज़र आती है। हालांकि इसी कविता के नाम पर संग्रह का नाम रखा गया है, लेकिन यह कवयित्री की सबसे कमज़ोर रचना है।

उखड़ना तय है हालांकि पुरुष के पज़ेस्सिवनेस से जुड़ी कुरूपता पर अलग से जोर देकर रोशनी डाली गई है, लेकिन एसिड-अटैक अपवाद है नियम नहीं। वर्ग-समाज में प्रेम भी दुर्लभ चीज़ है और जहाँ दुर्लभता होती है, उस पर क़ब्ज़ा बनाए रखने का आग्रह भी होता है। पज़ेस्सिवनेस से जुड़ी तमाम कुरूपताएं स्त्रियों में भी उतनी ही पाई जाती हैं और निश्चित रूप से उसके भौतिक आधार भी होंगे ही। मुख्य बात यह है कि पूँजीवादी समाज में चरम व्यक्तिवाद उन लोगों में भी पाया जाता है, जिन्हें सोचने-समझने वाला मनुष्य माना जाता है। इस कविता में पुरुष-द्वेष साफ़ तौर पर नज़र आता है।

पितृसत्ता की संवाहिकाएं स्थितियों के दार्शनिकीकरण की निर्वैयक्तिक अभिव्यक्ति है। कवियत्री का अपना सच तो इससे कहीं नत्थी है नहीं। स्त्रियाँ भी अपने सामाजिक परिवेश की उपज हैं, उनके अंदर भी पितृसत्ता है और इससे उन्हें मुक्त कराने के लिए सामाजिक आंदोलन को वेगवाही बनाना होगा। एकांगी तौर पर उन्हें कुसूरवार ठहराना सपाटबयानी के सिवाय कुछ भी नहीं। इस कविता को पढ़कर बिल्कुल भी मौज़ नहीं आई, संश्लिष्टता सिरे से ग़ायब है, काव्य-तत्व कहीं नज़र ही नहीं आया।

चुना मैंने प्रेम शब्दों की, भाषा की अपनी स्वतंत्र सत्ता होती है, लेकिन यह कविता एकदम से आत्मगत है और इसे वही समझ सकता है, जिसके पास अपने भी कुछ अनुभव हों। तो पाठक स्वयं इस कविता को पढ़ें और अर्थ निकालें, रिव्यूअर कोई मदद नहीं कर सकता। प्रेम होते हुए इसे भी पाठकों को ख़ुद से समझना है। रिव्यूअर के पास इनपुट नहीं कि राह दिखाए।

जीवन-समय यह भी प्रेम कविता है। अमर-प्रेम जैसी कोई चीज़ नहीं होती। समय के साथ सब कुछ अपने से विपरीत में बदल जाता है। यही प्रकृति का नियम है। हाँ, स्मृतियाँ सुमधुर हो सकती हैं और संभवतः उन्हीं स्मृतियों को कविता में लिपिबद्ध किया गया है।

प्रेम है वह दान अच्छी प्रेम कविता है। अतीत डरावना कुआँ है, वर्तमान उचाट दिनों की फ़ेहरिश्त भर, यदि नहीं याद में कोई। यादों में अपने ख़ुद के डीएनए के विस्तार नाती-पोते भी हो सकते हैं। लेकिन अगर यौवन है – उमंग है तो यौन-प्रेम को भी सहज-स्वाभाविक मानकर चला जाना चाहिए। मित्रता में विस्तार है, कॉमरेडशिप में साझेपने का आनंद है लेकिन गहनता तो ऐंद्रिकता में ही है और कोई भी एक दूसरे का विकल्प नहीं, सभी पूरक हैं और उन्हें इसी रूप में लिया जाना चाहिए। लेकिन, ऐंद्रिकता का बखान सामाजिक सरोकारों के साथ किया गया होता तो उसकी अर्थवत्ता कहीं अधिक होती। प्रेम-कविताएं इन अर्थों में वर्गीय-विमर्श से रहित हैं और कवियत्री को अपनी रचनाओं में इतिहास-निर्माता शक्तियों को लेकर अधिक सरोकारी होना चाहिए था।

जन्म लेते फिर एक बार प्रेम मारता अहं को, मुक्त होते हम अपनी क्षुद्रताओं से। यहाँ भी एक को दो में बाँटकर देखने की ज़रूरत थी और सामान्यीकरण से बचा जाना चाहिए था। ऐसा मालूम पड़ता है कि कवि-कर्म करते समय अपने विशिष्ट अनुभव ही काम आते हैं और उन्हीं की ज़मीन पर खड़े होकर सामान्यीकरण किया जाता है और पाठक अपने जीवनानुभवों की ज़मीन पर खड़ा होकर अपना अर्थ निकालने के लिए स्वतंत्र होता है। फिर ज़रूरी नहीं कि उसके अर्थ में और कवि के मूल अर्थ में कोई साम्यता हो ही।

हमख़्याल इस काव्य-संग्रह की ख़ूबसूरती यह है कि निज की अनुभूति वाली कविताएं जहाँ संख्या में अधिक है, वहीं राजनीतिक ताप-तेवर वाली कविता को भी जगह प्रदान की गई है और हमख़्याल कविता इसकी बानगी प्रस्तुत करती है। सामाजिक संगठन ही लिंग विभेद पैदा करते हैं, ‘व्यक्तिगत ही राजनीतिक’ कह बहनों ने घरेलू श्रम और पुनरुत्पादन पर विमर्श किया। व्यापक पढ़ाई-लिखाई और गहरी समझ इस कविता में प्रतिबिंबित हुई है। पाठक जब कविता को पूरा पढ़ेंगे तो उन्हें मेरी बात समझ में आएगी।

औरत हूँ न जो बात हो सकता है कि मैं कहता ख़ुद अलका प्रकाश कह गई हैं। अब व्यंजना का नहीं प्रश्न, बात सीधे-सीधे कहती हूँ, सपाटबयानी मेरी आदत, कला तो उलझाती है, उसका अंत करती हूँ।
एक लड़की की उधेड़बुन बाज़ार की चकाचौंध के विरुद्ध संघर्ष करती लड़की कहती हैः मेरी देह में एक आत्मा भी है, इसका मैं क्या करूं?

यहाँ संदर्भ देह के दम पर तरक्की की सीढ़ियाँ चढ़ते जाने का है।

एक बहाना जरा जीने का ढूँढ़ो उदास रहने के तो अनगिनत कारण बताए जा सकते हैं, लेकिन जीवन को उसके सभी रंगों में जीने के बहाने भी तो मनुष्य को ही तलाशने होते हैं और इस कविता में उसी की वकालत की गई है। और यह हिमायत-वकालत जेंडर निरपेक्ष है माने स्त्री-पुरुष सभी के लिए है।

संकलन की आख़िरी कविता है कोरोना वार्ड उस दौर में सबसे बड़ा आश्चर्य था कि अरे हम तो ज़िंदा बच गए।

डॉ. अलका प्रकाश की कविताओं को पढ़ने के लिए किसी ख़ास ट्रेनिंग की ज़रूरत नहीं। सामान्य भाषाई समझ हो और बुनियादी मानवीय सरोकार और संवेदनशीलता तो आप बड़े आराम से उन्हें पढ़ सकते हैं। जिन कविताओं में सब्जेक्टिविटी है, वे सभी को भाएंगी ही बशर्ते कि आपके अंदर मानवीय सारतत्व हो।

पूरे कविता संग्रह की बुनियाद स्वयं कवयित्री के ही शब्दों मेंः जीवन एक सा नहीं रहता, स्थितियाँ बदलती हैं तो जीवन भी उसके अनुसार ढलने लगता है। परिवर्तन न हो और उम्मीदें करवट न लें तो मनुष्य के लिए जीना दूभर हो जाता है।

रुद्रातित्य, प्रकाशन प्रयागराज ने इसे छापा है।

(कामता प्रसाद वरिष्ठ पत्रकार हैं और देश के लगभग सभी हिंदी अख़बारों में काम करने के बाद इन दिनों वाराणसी में रह रहे हैं।)