अंधेरी में रक्तदान शिविर, 103 यूनिट ब्लड एकत्रित

0
736

मुंबई लोगों से रक्तदान की अपील

शीतला प्रसाद सरोज

मुंबई। वैश्विक महामारी कोरोना के संक्रमण काल में मुंबई का हाल सबसे अधिक बेहाल है। यहां देश में सबसे ज़्यादा कोरोना के केस दर्ज हो रहे हैं और कोरोना से मौत भी इसी शहर में सबसे अधिक हो रही है। बड़ा तादादा में लोग अब भी अस्पताल में भर्ती हैं। ऐसे में यह शहर अपने हर सक्षम नागरिक से कुछ न सहयोग की उम्मीद करता है। बड़ी संख्या में लोग बीमार हैं, उन्हें रक्त की जरूरत पड़ती है। इसीलिए रक्तदान को महादान कहा जाता है। इसी तरह का रक्तादान का पुण्य कार्य अंधेरी पूर्व में दो संस्थाओं द्वारा संयुक्त रूप से किया गया।

मुंबई के जो लोग गंभीर रूप से बीमार हैं और अस्पताल में इलाज या सर्जरी के दौरान उन्हें रक्त की जरूरत है उनकी इसी जरूरत को पूरा करने के लिए सामाजिक संस्था पीएस फाउंडेशन और ग्लोबल हेल्पिंग फाउंडेशन की ओर से संयुक्त रूप से अंधेरी (पूर्व) के पंपहाउस स्थित अंबिका टॉवर परिसर में रक्तदान शिविर आयोजन किया गया और इस शिवरि में 103 यूनिट ब्लड इकट्ठा एकत्रित किया गया।

इस रक्तदान शिविर कार्यक्रम के सहयोगी व अजय चैरिटेबल ट्रस्ट के अध्यक्ष अजय तिवारी ने बताया कि जरूरतमंदों के सहायतार्थ आयोजित इस शिविर में बड़ी संख्या में रक्तदान करने के लिए लोग पहुँचे, जिनका मेडिकल चेकअप कर 103 यूनिट ब्लड इकट्ठा किया गया। उन्होंने रक्तदान करने वाले लोगों को दिल से धन्यवाद दिया और आभार व्यक्त किया।

शिविर का शुभारंभ पीएस फाउंडेशन के अध्यक्ष प्रदीप शर्मा ने किया। इस मौके पर पीएस फाउंडेशन के प्रमुख प्रदीप शर्मा ने कहा कि मुंबई के लोगों, खासकर अंधेरी पूर्व की जनता के कल्याण के लिए इस तरह का प्रयास भविष्य में भी जारी रहना चाहिए और इसके लिए उनका फाउंडेशन हर संभव सहयोग करता रहेगा। उन्होंने रक्तदान शिविर को सफल बनाने के लिए छोटा-बड़ा योगदान करने वाले हर कार्यकर्ता का आभार व्यक्त किया और आम लोगों से रक्तदान की अपील की।

कार्यक्रम में रक्तदान करने वालों को सर्टिफिकेट देकर सम्मानित भी किया गया। शिविर में टाटा मेमोरियल ब्लड बैंक, परेल के डॉक्टरों की टीम ने अपनी सेवाएं दीं। रक्तदान के इस अवसर पर शुभम मेने, प्रथमेश पवार, उमेश कोलंबे, प्रमोद श्यामाचरण पांडेय, मनीष पटेल, राकेश पांडेय, अतुल, अशोक सिंह, पुष्पा त्रिपाठी, शेखर करपे, सुनील करपे, अनिल भूते, शंकर मिश्रा, विनेश पेंडेकर, रोहित रावल, जसवंती वर्धराज चौहान, प्रदीप भावरिया सहित बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

इसे भी पढ़ें – क्या पुरुषों का वर्चस्व ख़त्म कर देगा कोरोना?