ऐ गम-ए-ज़िंदगी कुछ तो दे मशवरा… एक तरफ उसका घर, एक तरफ…

0
773

लंबे समय से बीमार चल रहे थे पंकज उधास

चिट्ठी आई है, चिट्ठी आई है… गाकर हर देशभक्त को वतन की याद दिलाने वाले गजल गायक पंकज उधास का 72 वर्ष की उम्र में मुंबई में निधन हो गया। उनकी पुत्री नायाब ने बताया कि वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे और उन्होंने आज सुबह 11 बजे ब्रीच कैंडी अस्पताल में अंतिम सांस ली। उनके स्वर में रिकॉर्ड गजल ‘चांदी जैसा रंग है तेरा, सोने जैसे बाल…’ गीत बहुत लोकप्रिय हुआ था। पंकज उधास की ग़ज़लें प्यार, नशा और शराब की बात करती थी। शराब पर उन्होंने अनगिनत ग़ज़ल गए।

17 मई 1951 को गुजरात के जेतपुर में केशुभाई उधास और जीतूबेन उधास के घर में जन्मे पंकज अपने तीन भाइयों में सबसे छोटे थे। उनके सबसे बड़े भाई मनहर उधास ने बॉलीवुड फिल्मों में हिंदी पार्श्व गायक के रूप में कुछ सफलता हासिल की। उनके दूसरे बड़े भाई निर्मल उधास भी प्रसिद्ध ग़ज़ल गायक थे। वैसे परिवार में गायन शुरू करने वाले तीन भाइयों में से वह पहले थे। उन्होंने सर बीपीटीआई भावनगर से पढ़ाई की थी। बाद में उनका परिवार मुंबई चला गया आया और पंकज ने मुंबई के सेंट जेवियर्स कॉलेज में पढ़ाई की।

उधास का परिवार राजकोट के पास चरखड़ी नामक कस्बे का रहने वाला था और जमींदार (पारंपरिक जमींदार) था। उनके दादा गाँव के पहले स्नातक थे और भावनगर राज्य के दीवान बने थे। उनके पिता, केशुभाई उधास, एक सरकारी कर्मचारी थे और उनकी मुलाकात प्रसिद्ध वीणा वादक अब्दुल करीम खान से हुई थी, जिन्होंने उन्हें दिलरुबा बजाना सिखाया था। जब उधास बच्चे थे, तो उनके पिता दिलरुबा, एक तार वाला वाद्ययंत्र बजाते थे। उनकी और उनके भाइयों की संगीत में रुचि देखकर उनके पिता ने उनका दाखिला राजकोट की संगीत अकादमी में करा दिया। उधास ने शुरुआत में तबला सीखने के लिए खुद को नामांकित किया लेकिन बाद में गुलाम कादिर खान साहब से हिंदुस्तानी गायन शास्त्रीय संगीत सीखना शुरू किया।

बाद में उधास मुंबई में ग्वालियर घराने के गायक नवरंग नागपुरकर के संरक्षण में प्रशिक्षण लिया। चार साल बाद वह राजकोट में संगीत नाट्य अकादमी में शामिल हो गए और तबला बजाने की बारीकियां सीखीं। उसके बाद, उन्होंने विल्सन कॉलेज और सेंट जेवियर्स कॉलेज, मुंबई से विज्ञान स्नातक की डिग्री हासिल की और मास्टर नवरंग के संरक्षण में भारतीय शास्त्रीय गायन संगीत में प्रशिक्षण शुरू किया।

पंकज उधास भारतीय ग़ज़ल और पार्श्व गायक थे जो हिंदी सिनेमा और भारतीय पॉप में अपने काम के लिए जाने जाते थे। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत 1980 में आहट नामक एक ग़ज़ल एल्बम के रिलीज़ के साथ की और उसके बाद 1981 में मुकरार, 1982 में तरन्नुम, 1983 में महफ़िल, 1984 में रॉयल अल्बर्ट हॉल में पंकज उधास लाइव, 1985 में नायाब और 1986 में आफरीन जैसी कई हिट फ़िल्में रिकॉर्ड कीं। ग़ज़ल गायक के रूप में उनकी सफलता के बाद, उन्हें महेश भट्ट की एक फिल्म , नाम में अभिनय करने और गाने के लिए आमंत्रित किया गया। उधास को 1986 की फिल्म नाम में गाने से प्रसिद्धि मिली, जिसमें उनका गाना “चिट्ठी आई है” (पत्र आ गया है) तुरंत हिट हो गया। इसके बाद उन्होंने कई हिंदी फिल्मों के लिए पार्श्वगायन किया।

पंकज उधास कैंसर रोगियों और थैलेसीमिक बच्चों के लिए मदद के लिए अक्सर कंसर्ट करते थे। दुनिया भर में एल्बम और लाइव कॉन्सर्ट ने उन्हें एक गायक के रूप में प्रसिद्धि दिलाई। 2006 में पंकज उधास को ग़ज़ल गायन की कला में उनके योगदान के लिए पद्मश्री से सम्मानित किया गया। राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम 29 मार्च 2006 को नई दिल्ली में अलंकरण समारोह में उनको पद्मश्री प्रदान किया था। उसी साल उन्हें “हसरत” के लिए “2005 का सर्वश्रेष्ठ ग़ज़ल एल्बम” के रूप में कोलकाता में प्रतिष्ठित “कलाकार” पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

उधास का पहला गाना फिल्म “कामना” में था, जो उषा खन्ना द्वारा संगीतबद्ध और नक्श लायलपुरी द्वारा लिखा गया था, यह फिल्म फ्लॉप रही लेकिन उनके गायन को बहुत सराहा गया। इसके बाद, उधास ने ग़ज़लों में रुचि विकसित की और ग़ज़ल गायक के रूप में अपना करियर बनाने के लिए उर्दू सीखी। उन्होंने कनाडा और अमेरिका में ग़ज़ल संगीत कार्यक्रम करते हुए दस महीने बिताए और नए जोश और आत्मविश्वास के साथ भारत लौट आए। उनका पहला ग़ज़ल एल्बम, आहट, 1980 में रिलीज़ हुआ था। यहीं से उन्हें सफलता मिलनी शुरू हुई और 2011 तक उन्होंने पचास से अधिक एल्बम और सैकड़ों संकलन एल्बम जारी किए हैं। 1986 में, उधास को फिल्म नाम में अभिनय करने का एक और मौका मिला, जिससे उन्हें प्रसिद्धि मिली। 1990 में, उन्होंने फिल्म घायल के लिए लता मंगेशकर के साथ मधुर युगल गीत “महिया तेरी कसम” गाया। इस गाने ने जबरदस्त लोकप्रियता हासिल की।

1994 में उधास ने साधना सरगम ​​के साथ फिल्म मोहरा का उल्लेखनीय गीत, “ना कजरे की धार” गाया, जो बहुत लोकप्रिय भी हुआ। उन्होंने पार्श्व गायक के रूप में काम करना जारी रखा और साजन, ये दिल्लगी, नाम और फिर तेरी कहानी याद आई जैसी फिल्मों में कुछ ऑन-स्क्रीन उपस्थिति दर्ज की। दिसंबर 1987 में म्यूजिक इंडिया द्वारा लॉन्च किया गया उनका एल्बम शगुफ्ता भारत में कॉम्पैक्ट डिस्क पर रिलीज़ होने वाला पहला एल्बम था। बाद में, उधास ने सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन पर आदाब आरज़ है नामक एक प्रतिभा खोज टेलीविजन कार्यक्रम शुरू किया। मशहूर अभिनेता जॉन अब्राहम उधास को अपना गुरु कहते थे।

पंकज उधास की गाई कुछ ग़ज़लें जो बहुत लोकप्रिय हुईं

सबको मालूम है मैं शराबी नहीं
फिर भी कोई पिलायें तो मैं क्या करूँ
सिर्फ़ इक बार नज़रों से नज़रें मिलें
और कसम टूट जाये तो मैं क्या करूँ

…………………………..

न समझो कि हम पी गए पीते-पीते,
कि थोड़ा सा हम जी गए पीते-पीते

…………………………..

ऐ गम-ए-ज़िंदगी कुछ तो दे मशवरा
एक तरफ उसका घर, एक तरफ मयकदा

…………………………..

शराब चीज़ ही ऐसी है ना छोड़ी जाए
ये मेरे यार के जैसी है ना छोड़ी जाए

…………………………..

ये इंतज़ार ग़लत हैं के शाम हो जाए
जो हो सके तो अभी दौर-ए-जाम हो जाए

…………………………..

निकलो न बेनक़ाब ज़माना खराब है
और उसपे ये शबाब, ज़मान खराब है

प्रस्तुति – हरिगोविंद विश्वकर्मा