विश्वकर्मा समिति को आर्थिक रूप से और मजबूत बनाने का टास्क टीम का आह्वान

0
1078

संवाददाता

मुंबई, विश्वकर्मा समिति, मुंबई की टास्क टीम के सदस्य सुनील राणा ने विश्वकर्मा ने समिति के आर्थिक पहलू को मजबूत करने पर जोर देते हुए कहा है कि किसी भी संस्था के विकास के लिए ज़रूरी है कि उसका आर्थिक पक्ष मज़बूत हो और संस्था के पास ज़रूरतमंद लोगों की मदद करने के लिए पर्याप्त धन हो, इसलिए विश्वकर्मा समिति शीघ्र ही ऐसे कार्यक्रम शुरू करेगी, जिससे संस्था को मिलने वाली धनराशि में तेज़ी से इज़ाफ़ा हो सके।

सुनील राणा विश्वकर्मा समिति के एकीकरण के बाद कालीना परिसर में विश्वसृष्टा भगवान विश्वकर्मा महापूजा के अवसर पर समाज के लोगों को संबोधित कर रहे थे। चैरिटी कोर्ट द्वारा अधिकृत किए जाने के बाद शनिवार को विश्वकर्मा महापूजा टास्क टीम के नेतृत्व बहुत भव्य तरीके से किया गया। टास्क टीम के सदस्य अधिवक्ता जेपी शर्मा ने बताया कि चैरिटी कोर्ट ने टास्क टीम को अधिकार देते हुए पिछले पंद्रह साल से की कार्यकारिणियों के लेन-देन की जांच करने के लिए ऑडिटर नियुक्त किया है। ऑडिटर जांच के दौरान किसी कार्यकारिणी के लेन-देन को प्रथम दृष्या संदिग्ध पाया जाता है तो उसकी जांच कराई जा सकती है और यह जांच तीन महीने में पूरी करनी होगी।

टास्क टीम के सदस्य राजेंद्र सी विश्वकर्मा ने समाज के व्यापक हित में आपसी एकता बनाए रखने पर जोर देते हुए कहा कि पिछली कार्यकारिणियों के लेन देन की जांच और सदस्य की सूची को अंतिम रूप देने के बाद विश्वकर्मा समिति की नई कार्यकारिणी का चुनाव चैरिटी कोर्ट के मार्गदर्शन में कराया जाएगा। उन्होंने लोगों से अपील की है कि विश्वकर्मा समिति में जो एकता बनी हुई है, उसे और सुदृढ़ किया जाने की ज़रूरत है।

शाम को मशहूर गायिका पूनम विश्वकर्मा की अगुवाई में सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किया गया। पूनम ने स्वरचित विश्वकर्मा भजन, पचरा लोकगीत और दूसरे गीत पेश करके समां बांध दी। उनका साथ गायक बलेंद्र विश्वकर्मा और साधना सरगम ने दिए और भजन व समसामयिक गीत प्रस्तुत किए। समारोह में ज्ञानतारा अकादमी कांदिवली पूर्व की छात्रा शीतल मोतीलाल विश्वकर्मा ने नृत्य प्रतुत किया। इस अवसर पर भगवान श्री विश्वकर्मा, राधा-कृष्ण, कृष्ण-सुदामा और शंकर की झांकी भी पेश की गई। कार्यक्रम में विजयशंकर विश्वकर्मा और उनके छोटे भाई अशोक विश्वकर्मा ने भी कई गाने पेश किए।

पूजा समारोह में आए पूर्व सांसद संजय निरुपम ने विश्वकर्मा महापूजा के अवसर लोगों को बधाई देते हुए कहा कि विश्वकर्मा समिति की एकता दूसरी संस्थाओं के लिए मिसाल बन रही है। उन्होंने विश्वकर्मा समिति के माध्यम से किए जा रहे सामाजिक कार्यों की प्रशंसा की। निरुपम के हाथों प्रोफेसर लालबिहारी शर्मा की पद्यात्मक किताब ‘अनिता पर्व’ का विमोचन किया। इस अवसर पर डॉ मालविका विश्वकर्मा ने शिक्षा और एडवोटेक भूमि विश्वकर्मा ने दहेज कानून भी अपने विचार व्यक्त किए।

गृह राज्यमंत्री कृपाशंकर सिंह ने समिति में सामाजिक कार्यों के लिए विधान परिषद नेता प्रवीण दरेकर के विधायक निधि से 10 लाख रुपए दिलाने का वादा किया। भाजपा मुंबई के उपाध्यक्ष आचार्य पवन त्रिपाठी ने कहा कि समस्त ब्रह्मांड की रचना भगवान विश्वकर्मा के हाथों से हुई है। भगवान विश्वकर्मा ने इंद्रपुरी, द्वारिका, हस्तिनापुर, स्वर्गलोक, लंका, जगन्नाथपुरी आदि का निर्माण किया। भगवान विश्वकर्मा का एक अलग पुराण ही है। विश्वकर्मा समाज को मिली कारीगरी ईश्वरीय उपहार है, इनके बिना सुखमय जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती। इस समाज का देश की प्रगति में अहम योगदान रहा है।

भाजपा नेता आरयू सिंह ने कहा कि भगवान विश्वकर्मा निर्माण के देवता हैं और विश्वकर्मा वंशज उनके सच्चे उपासक हैं जो सकारात्मक दिशा में अपना दिमाग लगाकर देश के नवनिर्माण का कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि विश्वकर्मा समिति से हमारा बहुत पुराना नाता है। इस अवसर पर भाजपा नेता अखिलेश चौबे, प्रमोद मिश्रा, अजय शुक्ला आदि भी उपस्थित रहे।

एवेरेस्ट प्लाई के निदेशक अमन गर्ग, जी एस लखोटिया, फिल्मकार नीरज विश्वकर्मा और सेवन हिल अस्पताल के डॉ संजय विश्वकर्मा भी उपस्थित रहे। कार्यक्रम में विश्वकर्मा पूजा प्रबंध समिति के अध्यक्ष रामनेरश विश्वकर्मा, रामजी विश्वकर्मा, रामनरेश विश्वकर्मा, धनराज शर्मा, दिनेश शर्मा, तूफानी विश्वकर्मा, एड अनिल विश्वकर्मा, शिवकुमार शर्मा, मदन शर्मा, लक्ष्मीचंद विश्वकर्मा, प्रेमचंद विश्वकर्मा, राजू भाई विश्वकर्मा, रघुराज विश्वकर्मा, लल्लूराम विश्वकर्मा, अधिवक्ता जयप्रकाश विश्वकर्मा, अधिवक्ता सूर्यबली, रमेश विश्वकर्मा, रमेश सी.वी., चंद्रबली विश्वकर्मा उपस्थित रहे।

इसके अलावा रामदास विश्वकर्मा, संजय विश्वकर्मा, विश्वकर्मा, बालगोविंद विश्वकर्मा, परविंद विश्वकर्मा, पन्नालाल विश्वकर्मा, मेवालाल विश्वकर्मा, विजय विश्वकर्मा, अशोक विश्वकर्मा, लल्लूराम विश्वकर्मा, बृजेश विश्वकर्मा, सुभाष विश्वकर्मा, अवधेश विश्वकर्मा, कमलेश विश्वकर्मा, मुकेश विश्वकर्मा, उमाशंकर विश्वकर्मा, लल्लन विश्वकर्मा, पत्रकार फ़्लैश न्यूज़ राजकुमार विश्वकर्मा, गंगाराम विश्वकर्मा, प्रो. इंद्रकुमार विश्वकर्मा, संतोष विश्वकर्मा, उपेंद्र विश्वकर्मा, विशाल विश्वकर्मा, धीरज शर्मा, रामशब्द शर्मा, चंद्रकेश विश्वकर्मा और वसंत विश्वकर्मा समेत कई सौ लोगों ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम का सूत्र संचालन गंगाराम विश्वकर्मा एवं बाबूलाल विश्वकर्मा ने किया।