भारतीय राजनीति की बोल्ड एंड ब्यूटीफुल महिलाएं

0
2626

Bold & Beautiful Women of Indian Politics

भारतीय राजनीति में यूं तो शुरू से ही ग्लैमरस महिलाओं की रूझान रही है। लेकिन पिछले दो दशक से ग्लैमरस महिलाओं की राजनीति में भागीदीरी तेज़ी से बढ़ी है। अगर देश की लोकसभा की बात करें तो 2019 के चुनाव में 78 महिलाओं ने विजयश्री दर्ज करके सबसे बड़ी जन पंचायत का सदस्य बनने का गौरव हासिल किया। यह संख्या महिलाओं के लिए प्रस्तावित 33 फ़ीसदी के आधा से थोड़ा ही कम है। आज चर्चा करते हैं, कुछ उन महिलाओं की जो भारतीय राजनीति में अपनी उपस्थित असरदार तरीक़े से दर्ज कराई हैं।

नवनीत कौर राणा
पूर्व अभिनेत्री नवनीत कौर राणा (Navneet Kaur Rana) फिलहाल महाराष्ट्र के अमरावती से लोकसभा सदस्य हैं। 06 अप्रैल 1985 को मुंबई में हरभजन सिंह कुंडलेस और रजनी कौर के यहां जन्मी नवनीत ने अपना स्नातक मुंबई से किया और पढ़ाई के दौरान ही मॉडलिंग शुरू कर दी थी। तेलुगु सिनेमा की स्टार रही नवनीत ने हिंदी, पंजाबी और मलयालम फिल्मों में भी अभिनय किया है। मॉडलिंग और अभिनय के दौरान उन्हें बहुत बोल्ड अभिनेत्री माना जाता था। 2011 में अचानक उन्होंने फिल्मों से ब्रेक ले लिया और बिजनेसमैन राजनेता और योग गुरु बाबा रामदेव के भतीजे रवि राणा से शादी कर ली। उनकी शादी इसलिए भी चर्चित रही क्योंकि उनके साथ 3100 से ज़्यादा जोड़ों का सामूहिक विवाह हुआ और सबका ख़र्च रवि राणा ने उठाया। सामूहिक विवाह में तत्कालीन मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण और रामदेव भी गेस्ट थे। 2019 में महाराष्ट्र से लोकसभा पहुंचने वाली नवनीत इकलौती एक्ट्रेस हैं।

नुसरत जहां रूही
अभिनेत्री नुसरत जहां रूही (Nusrat Jahan Ruhi) बसीरहाट से त्रिणमूल कांग्रेस की लोकसभा सदस्य हैं। नुसरत जहां 08 जनवरी 1990 को कोलकाता में मोहम्मद शाह जहां और सुषमा खातून के यहां पैदा हुई। कोलकाता से सनातक करने के बाद उन्होंने अभिनय शुरू किया। लॉकडाउन के दौरान ही उन्होंने निखिल जैन के साथ जून 2019 में शादी कर ली। लॉकडाउन में अपनी ने अपनी ब्लैक ब्रालेट और ब्लैक जीन्स में ग्लैमरस तस्वीरें शेयर करके ख़ासी चर्चा में रहीं। उनकी त्सवीर देखकर उनकी दोस्त मिमी चक्रवर्ती (Mimi Chakraborty) ने ‘किलर’ लिखा। उस समय नुसरत जहान अपनी अपकमिंग फिल्म स्वास्तिक संकेत (Swastik Sanket) की शूटिंग के लिए ब्रिटेन में थीं। इन फोटो को शेयर करते हुए ख़ुद नुसरत जहान रूही ने लिखा है, “लोग आपको घूरेंगे, तो उनके घूरने को भी बेहतर बनाओ।”

मिमी चक्रवर्ती
अभिनेत्री मिमी चक्रवर्ती (Mimi Chakraborty) फिलहाल पश्चिम बंगाल के जाधवपुर से तृणमूल कांग्रेस की लोकसभा सदस्य हैं। पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी में बंगाली ब्राह्मण सोमेश चक्रवर्ती और तापसी चक्रवर्ती के यहां 11 फरवरी 1989 को जन्मी मिमी चक्रवर्ती जादवपुर (पश्‍चिम बंगाल) से तृणमूल कांग्रेस की लोकसभा सदस्य हैं। वह कोलकता विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। अध्ययन के दौरान ही उन्होंने मॉडलिंग शुरू कर दी थी। बाद में उन्होंने अभिनय को अपना करीयर बना लिया। उन्होंने 2019 में टीएमसी उम्मीदवार के रूप में राजनीतिक मैदान में कदम रखा। वे 2019 के लोकसभा चुनाव में शानदार जीत के साथ जादवपुर सीट से सांसद बनी। 2016 में कलकत्ता टाइम्स ने उन्हें मोस्ट डिज़ायरेबल वुमेन के खिताब से नवाज़ा था।

दिव्या स्पंदना राम्या
अभिनेत्री और कांग्रेस मीडिया सेल की प्रमुख रही दिव्या स्पंदना (Divya Spandana) कांग्रेस की फायरब्रांड नेता है। लोग उन्हें राम्या के नाम से भी जानते हैं। वह 16वीं लोकसभा की कांग्रेस सदस्य थीं, लेकिन 2019 में वह चुनाव हार गईं। 29 नवंबर 1982 को बंगलुरु में जन्मी राम्या (Ramya) मुख्य रूप से मलयालम, तमिल और कन्नड़ फिल्मों में काम करती रही हैं। स्पंदना दो फिल्मफेयर अवार्ड्स साउथ, उदय अवार्ड और कर्नाटक स्टेट फिल्म अवार्ड भी पा चुकी हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ख़िलाफ़ आपत्तिजनक ट्वीट करने के मामले में दिव्या के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया गया था। कांग्रेस के डिजिटल विंग की कमान उन्हें राहुल गांधी ने सौंपी थी। पाकिस्तान को अच्छी जगह बताने के लिए भी उन पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज हुआ था। पूर्व रक्षामंत्री मनोहर पर्रीकर ने बयान दिया था कि ‘पाकिस्तान और नर्क एक जैसे हैं।’ इसके जवाब में राम्या ने कहा था कि पाकिस्तान एक अच्छी जगह है। उनके इस बयान के बाद कर्नाटक में उन पर देशद्रोह का मुकदमा तक दर्ज हो गया।

अंगूरलता डेका
असम के बतादरोबा विधानसभा क्षेत्र से भाजपा विधायक अंगूरलता डेका (Angoorlata Deka) का जन्म जन्म 31 जनवरी 1986 नलबाड़ी में हुआ। उन्हें बचपन से डांस का शौक था। अपने गुरू बरनाली महंता के मार्गदर्शन में उन्होंने कत्थक की ट्रेनिंग हासिल की। पिछले आठ सालों से अंगूरलता असमिया फिल्मों की सबसे प्रसिद्ध अभिनेत्री हैं। फिल्मों के अलावा वो थियेटर में भी काम करती हैं। अंगूरलता डेका ने असमिया अभिनेता अकाशदीप से शादी किया। वह भाजपा की बेहद सक्रिय विधायकों में से एक हैं।

गुल पनाग
गुलकीरत कौर पनाग (Gul Panag) 1999 में मिस इंडिया चुने जाने के बाद फ़िल्मों में अभिनय किया। 2014 में वह आम आदमी पार्टी में सामिल हो गईं और लोकसभा चुनाव में चंड़ीगढ़ से प्रत्याशी बनी, जहाँ इनका मुकाबला किरण खेर और पवन बंसल से था। 3 जनवरी 1979 को चंडीगढ़ में जन्मीं गुल पनाग को लोग एक्टिंग से ज़्यादा उनके कूल एटि्ट्यूड के लिए जानते हैं। फिल्म इंड्स्ट्री में भले स्थापित न हो पाई, गुल पनाग अपने बिंदास अंदाज के चलते अपने कद्रदानों ख़ासा प्रभाव छोड़ा है। क्यूट सी डिंपल वाली गुल पनाग सिर्फ एक एक्ट्रेस नहीं बल्कि एक पायलेट, फार्मूला कार रेसर, वीओ आर्टिस्ट और राजनीतिज्ञ भी हैं। पर्दे पर गुल ने चाहे जैसे भी रोल निभाए हों, लेकिन असल जिंदगी में वो बेहद कूल नजर आती हैं।

अलका लांबा
राष्ट्रीय छात्रसंघ से राजनीतिक करियर की शुरुआत करने वाली अलका लांबा (Alka Lamba) दिल्ली विश्वविधालय की अध्यक्ष रहीं। 2002 में वह महिला कांग्रेस का महासचिव बनीं और 2006 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का हिस्सा। दिल्ली कांग्रेस का महासचिव नियुक्त किया गया। 2013 दिसंबर में उन्होंने कांग्रेस छोड़कर आम आदमी पार्टी का दामन थाम लिया और चांदनी चौक से विधायक चुनी गईं। अलका लांबा समानता और मानवाधिकार मुद्दों पर सक्रिय प्रचारक के तौर पर काम कर रही है। ‘गो इंडिया फाउंडेशन’ नामक एनजीओ के ज़रिए 2010 में 65,000 लोगों को रक्तदान किया, जिसे सलमान खान, रितेश देशमुख और दीया मिर्जा ने सराहा। पिछले साल आप को छोड़कर वह कांग्रेस में वापस आ गईं।

पूनमबेन मदाम
पूनमबेन मदाम (Poonamben Madam) गुजरात के जामनगर से लोकसभा में भाजपा की सदस्य हैं। वह जामनगर जिले के खंभालिया से गुजरात विधानसभा की सदस्य के रूप में चुनी गईं। वह हेमंतभाई मदाम और दीनाबेन मदाम की पुत्री हैं। पूनम ने राजनीतिक सफ़र कांग्रेस से शुरू किया और बाद में वह भाजपा में शामिल हो गईं। वह खंभालिया से भाजपा विधायक चुनी गईं। उनके दादा रामभाई मदाम शिक्षा के क्षेत्र में अहीर समुदाय के कामों में काफी सक्रिय थे। 2009 तक, वह दिल्ली में रहीं, लेकिन बाद में वह खंभालिया में बस गईं। वह मूलरूप से कल्याणपुर की हैं।

दीया कुमारी
राजकुमारी दीया कुमारी (Diya Kumari) वर्तमान में राजसमंद से लोकसभा सांसद हैं। पहले वह राजस्थान विधानसभा में सवाई माधोपुर से विधायक थी। जयपुर की राजकुमारी दिया कुमारी जयपुर के महाराजा सवाई सिंह और महारानी पद्मिनी देवी की पुत्री हैं। उनकी प्रारंभिक शिक्षा मॉडर्न स्कूल, नई दिल्ली और महारानी गायत्री देवी गर्ल्स पब्लिक स्कूल, जयपुर में हुई। बाद में इंटिरियर का कोर्स करने वह लंदन चली गईं। वव परिवार की विरासत को सहेजने का कार्य करती हैं, जिसमें सिटी पैलेस, जयपुर जो उनका आंशिक निवास स्थान भी है। जयगढ़ दुर्ग, आमेर और महाराजा सवाई सिंह द्वितीय संग्राहलय ट्रस्ट, जयपुर एवं जयगढ़ पब्लिक चैरिटेबल ट्रस्ट शामिल हैं।

रक्षा खडसे
रक्षा खडसे (Raksha Khadse) जलगांव के रावेर लोकसभा क्षेत्र से भाजपा की सांसद हैं। महाराष्ट्र के धुले जिले में 13 मई 1987 को एक किसान परिवार में उनका जन्म हुआ था। वह महाराष्ट्र के अनुभवी और बड़े नेता एकनाथ खडसे की पुत्रवधू हैं। उनके पति और जिला परिषद सदस्य निखिल खडसे मई 2013 में एमएलसी चुनाव में सिर्फ़ 16 वोटों से हारने के बाद अपने घर में ही ख़ुद को गोली मार ली थी। जिससे दो छोटे बच्चों की जिम्मेदारी रक्षा पर आ गई। उनकी मृत्यु से खाली जिला परिषद सीट पर रक्षा निर्वाचित हुई। रक्षा सामाजिक कार्य, पढ़ने, खेल और प्राकृतिक स्थानों पर जाने में रुचि रखती हैं

छवि राजावत
1980 में जन्मी छवि राजावत (Chhavi Rajawat) राजस्थान के टोंक जिले के सोड़ा गांव की सरपंच हैं। व देश की सबसे कम उम्र की और एकमात्र एमबीए सरपंच हैं। वह भारतीय महिला बैंक की निदेशक भी रही हैं। शिक्षा ऋषि वैली स्कूल और मेयो कॉलेज गर्ल्स स्कूल में पढ़ने के बाद दिल्ली विश्वविद्यालय के लेडी श्रीराम कॉलेज से स्नातक किया। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ माडर्न मैनेजमेंट, पुणे से उन्होंने एमबीए किया और कई नामी कारपोरेट कंपनियों में काम किया। 2011 में मैनेजमेंट की नौकरी छोड़कर गांव की मिट्टी से जुड़ गईं और सरपंच चुनाव जीत गईं। जीतने के बाद छवि ने कहा, ‘मैं गांव में सेवा करने के उद्देश्य से आई हूं।’ वह अपने गांव में वॉटर हार्वेस्टिंग कार्यक्रम चला रही हैं।

डिंपल यादव
डिंपल यादव (Dimple Yadav) जानी मानी पोलिटिशियन हैं। वह कन्नौज से लगातार दो बार सांसद रह चुकी हैं। डिंपल यादव का जन्म 1978 में पुणे में हुआ था। वह सेवानिवृत्त भारतीय सेना कर्नल आरएस रावत और चंपा रावत की तीन पुत्रियों में मंझली हैं। उनका परिवार मूल रूप से उत्तराखंड का है। उनकी शिक्षा पुणे, बठिंडा और अंडमान निकोबार द्वीप और आर्मी पब्लिक स्कूल, नेहरू रोड, लखनऊ में हुई थी। उनका विवाह समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से 1999 में हुआ है। अखिलेश यादव को ”भइया’ कहने के कारण यूपी में युवा उन्हें ‘डिम्पल भाभी’ पुकारते हैं।

रीति पाठक
रीति पाठक (Riti Pathak) मध्य प्रदेश के सीधी लोकसभा संसदीय सीट से भाजपा सदस्य हैं। 1 जुलाई 1977 को जन्मी रीति पहली बार 2014 के लोकसभा चुनावों में मध्य प्रदेश की सीधी सीट से चुनी गईं। इतिहास और हिंदी साहित्य में स्नातक के बाद इतिहास में मास्टर डिग्री प्राप्त की। रीति के पास क़ानून की स्नातक की भी डिग्री है। कॉलेज के दिनों से ही वह सह-पाठयक्रम गतिविधियों में सक्रिय थी और अपने स्नातक स्तर के तीनों एनसीसी प्रमाणपत्रों को पूरा किया। वह 1994-95 में जीडीसी में संयुक्त सचिव थीं।

महुआ मोइत्रा
महुआ मोइत्रा (Mahua Moitra) पश्चिम बंगाल की कृष्‍णानगर लोकसभा से तृणमूल कांग्रेस की सांसद हैं। महुआ की परवरिश बहुसांस्कृतिक माहौल में हुई। मोइत्रा माउंट होलीक कॉलेज, साउथ हैडली, मैसाचुसेट्स, संयुक्त राज्य अमेरिका से अर्थशास्त्र और गणित में स्नातक किया। वह डेनमार्क में रही। महुआ ने 2008 में राजनीति के क्षेत्र में उतरने के लिए जेपी मॉर्गन में उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। वह करीमपुर से विधायक रहीं। पार्टी में उनका कद लगातार बढ़ रहा है। 2019 में उन्‍हें लोकसभा चुनाव लड़ाया गया और सांसद बनीं। पिछले कुछ वर्षों से अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस के महासचिव और राष्ट्रीय प्रवक्ता के रूप में कार्य किया।

ज्योति मिर्धा
नागौर के मिर्धा परिवार की तीसरी पीढ़ी की सदस्य डॉ. ज्योति मिर्धा (Jyoti Mirdha) कांग्रेस की पूर्व सांसद हैं। वह कांग्रेस के दिग्गज नेता रामनिवास मिर्धा की पोती और राम प्रकाश मिर्धा की बेटी हैं। 26 जुलाई 1972 को राम प्रकाश और वीणा के घर जन्मी ज्योति राजस्थान की वह ज़मीन से जुड़ी जनाधार वाली नेता हैं। 2009 में वह नागौर पूर्व से कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा सदस्य चुनी गईं। लोकसभा के सदन में उन्होंने अपना प्रभावशाली असर छोड़ने में कामयाब रहीं।

इसे भी पढ़ें – कविता – रघुकुल की मर्यादा