कोरोना संक्रमण काल में लावारिश लाशों के अंतिम संस्कार के लिए आगे आए मोहित भारतीय

0
987

मुंबई। भारतीय जनता पार्टी, मुंबई के महासचिव और सामाजिक सरोकारों से जुड़े ट्रस्ट मोहित भारतीय फाउंडेशन के चेयरमैन मोहित भारतीय मुंबई में कोरोना वाइरस के संक्रमण या दूसरी बीमारियों से मरने वाले उन लोगों के पार्थिव शरीर के अंतिम संस्कार करने के लिए आगे आए हैं, जिन लाशों को लेने के लिए लॉकडाउन या दूसरे कारणों से उनके परिजन आगे नहीं आ रहे हैं। इस कार्य के लिए उन्होंने बीएमसी कमिश्नर से औपचारिक अनुमति देने का अनुरोध किया है।

बृहन्मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) आयुक्त इकबाल सिंह चहल को लिखे एक पत्र में श्री भारतीय ने कहा कि कोरोना संक्रमण के कारण जान गंवाने वाले ढेर सारे लोगों के पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार के लिए ले जाने के लिए उनके परिजन आगे नहीं आ रहे हैं। इससे मुंबई के मुर्दाघरों में शव कई-कई दिन पड़े रहते हैं। ऐसे में उनके ट्रस्ट मोहित भारतीय फाउंडेशन ने लावारिश लाशों के अंतिम संस्कार में बीएमसी और मुंबई पुलिस का हाथ बंटाने का फैसला किया है।

बीएमसी कमिश्नर को लिखे पत्र में श्री भारतीय ने कहा, “वैश्विक महामारी कोविड-19 के संक्रमण काल में कोरोना या दूसरी बीमारियों से जान गंवाने वाले लोगों के अंतिम संस्कार का अतिरिक्त दायित्व बीएमसी और मुंबई पुलिस को निभाना पड़ रहा है। ऐसे में भारत और महाराष्ट्र के नागरिक के रूप में हर किसी की जिम्मेदारी है कि संकट के इस समय में बीएमसी का हाथ बंटाए। इसीलिए मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि जिन लाशों को लेने के लिए उनके परिजन कुछ निजी कारणों से आगे नहीं आ पा रहे हैं, उन लाशों के अंतिम संस्कार की जिम्मेदारी मेरे फाउंडेशन को सौंप दी जाए। हम हर शव का सम्मानपूर्वक अंतिम संस्कार करने के लिए तैयार हैं।”

श्री भारतीय ने आगे कहा, “आपकी अनुमति मिलने के बाद हमारा फाउंडेशन उन लाशों को मुर्दाघरों से उठाने के लिए एंबुलेंस का प्रबंध करेगा और उन्हें अस्पताल के मुर्दाघर से श्मशान घर ले जाया जाएगा और वहां पूरे सम्मान के साथ हर शव का अंतिम संस्कार किया जाएगा।”

इसे भी पढ़ें – महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण बेक़ाबू, पर सूना है राज्य का सबसे शक्तिशाली बंगला ‘वर्षा’