पाक के बाद नेपाल सीमा पर भी नागरिक असुरक्षित, नेपाल पुलिस ने भारतीय की गोली मार कर की हत्या

0
938

अभी तक सीमावर्ती क्षेत्रो में भारतीयों नागरिकों के लिए केवल पाकिस्तान और चीन ख़तरा थे, लेकिन अब अक नया फ्रंट खुल गया है। वह है भारत नेपाल सीमा। यहां भी भारतीय नागरिक सुरक्षित नहीं हैं। भारत-नेपाल की सीमा सुरक्षा की निगरानी करने वाले नेपाल आर्म्ड पुलिस फोर्स ने शुक्रवार सुबह बिहार के सीतामढ़ी के पास एक सीमा चौकी गोलीबारी की जिससे सीतामढ़ी के सोनबरसा के 25 वर्षीय विकेश राय नाम के एक भारतीय नागरिक की मौत हो गई और सोनबरसा के ही उमेश राम और उदय शर्मा नामके दो अन्य नागरिक घायल हो गए। उन्हें सीतामढ़ी के ही एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

बिहार पुलिस ने एक भारतीय नागरिक की हत्या की पुष्टि करते हुए कहा कि गोलाबारी सुबह 8.15 बजे सोनबरसा पुलिस थाने के जानकी नगर, लालबंदी दरबार के पास पिलर नंबर 319/24 के नेपाल में हुई। हालांकि नेपाल और बिहार के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों और नेपाल आर्म्ड पुलिस फोर्स ने इसे स्थानीय घटना बताया और कहा कि इसका भारत-नेपाल सीमा विवाद से कोई लेना-देना नहीं है। सीतामढ़ी पुलिस के अनुसार, नेपाल आर्म्ड पुलिस फोर्स ने स्थानीय महिलाओं के एक समूह को सीमा चौकी से दूर जाने के लिए कहा। सोनबरसा में शांति नगर के रामलगन राय को नेपाल के जवानों ने हिरासत में ले लिया था। इससे भीड़ की उनके साथ झड़प हुई और नेपाली जवानों ने गोलियां चला दीं।

गोलीबारी में मारे गए विकेश राय के पिता नागेश राय ने कहा कि नेपाल के नारायणपुर क्षेत्र में उकी कृषि भूमि है। उनका बेटा विकेश खेतों में काम कर रहा था, तभी जब नेपाली जवानों ने गोलियां चला दी। सोनबरसा के लोगों की नेपाल सीमा में जमीन है। इन दिनों कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते उन्हें अपने खेतों में जाने की अनुमति नहीं दी जा रही है।

उधर काठमांडू में नेपाल के गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि लगभग 60 लोग सोनबरसा से सरलाही जिले की सीमा में दाखिल हुए और चेक के लिए रोके जाने पर जवानों पर पथराव शुरू कर दिया। सरलाही के मुख्य जिला अधिकारी मोहन जी सी ने कहा कि भीड़ में से एक भारतीय नागरिक ने भी नेपाल के जवानों की राइफल छीन ली और उसके बाद हुई गोलीबारी में एक भारतीय नागरिक की मौके पर ही मौत हो गई और तीन सुरक्षाकर्मियों सहित छह अन्य लोगों को चोटें आईं। अधिकारी ने कहा, “आमतौर पर सीमा पर पुलिस संयम बरतती है, लेकिन लॉकडाउन के समय सीमा पार से भीड़ के हिंसक व्यवहार के कारण गोलीबारी हुई।” सीतामढ़ी के अधिकारियों ने सीमा पार अपने समकक्ष अधिकारियों से बातचीत की है।

पिछली बार जब भारत पर नेपाल की आर्थिक नाकेबंदी लागू की गई थी, उसके पांच हफ्ते पहले सीमा पर गोलीबारी की ऐसी घटना हुई थी। 3 नवंबर, 2015 को नेपाल पुलिस ने देश के नए संविधान के विरोध में लोगों द्वारा कब्जा किए गए सीमा पुल को साफ करने के लिए गोली चलाई थी, जिसमें बिहार में रक्सौल के 20 वर्षीय निवासी आशीष कुमार राम की मौत हो गई थी।

सीतामढ़ी के पुलिस अधीक्षक अनिल कुमार ने कहा, “यह पूरी तरह से स्थानीय घटना है, जिसे नेपाल आर्म्ड पुलिस फोर्स की ओर से मामूली कानून-व्यवस्था प्रबंधन मुद्दे से उकसाया गया है। इसका भारत-नेपाल सीमा पर किसी भी तनाव से कोई लेना-देना नहीं है। कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के उपायों के मद्देनजर दोनों ओर से नागरिकों की आवाजाही प्रतिबंधित है।” बिहार के पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडे ने भी इसे ‘स्थानीय मुद्दा’ मुद्दा बताया है।

सशस्त्र सीमा बल 51 बटालियन कमांडेंट नवीन कुमार ने कहा, “हमारा मानना ​​है कि नेपाल आर्म्ड पुलिस फोर्स स्थिति को बेहतर तरीके से संभाल सकता था। हम उनसे बात कर रहे हैं। यह सच है कि कोविड-19 के कारण सीमा पर आवागमन प्रतिबंधित है और दोनों ओर के लोग न तो अपनी जमीन तक जा सकते हैं न ही अपने रिश्तेदारों से स्वतंत्र रूप से मिल सकते हैं।”

एसएसबी के महानिदेशक कुमार राजेश चंद्र ने कहा, “यह पूरी तरह से स्थानीय मुद्दा है जिसमें कोई देश-से-देश या सेना-से-सेना का कोई लेना-देना नहीं हैं। मामले को सुलझाने के लिए दोनों ओर से स्थानीय पुलिस एक दूसरे से बातचीत कर रही है। हमारा डीआईजी नेपाल अधिकारी के संपर्क में है। सीमा पर कोई तनाव नहीं है।”

नेपाल में प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली अपने नए नक्शे के लिए संसदीय स्वीकृति प्राप्त करने के लिए नेपाल संसंद में विधेयक पेश किया है जिसमें उत्तराखंड के कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा के क्षेत्र को नेपाल का हिस्सा बताया गया हैं। शनिवार को विधेयक को प्रतिनिधि सभा में मतदान करने के लिए रखा जाएगा जहां सरकार के फैसले के समर्थन में पार्टी लाइनों के सदस्य सामने आए हैं। एक बार जब यह निचले सदन को मंजूरी दे देता है, तो विधेयक उच्च सदन यानी राष्ट्रीय सभा में चला जाएगा।

इसे भी पढ़ें – क्या पुरुषों का वर्चस्व ख़त्म कर देगा कोरोना?