ठुमरी – तू आया नहीं चितचोर

1
1333
ठुमरी
 
तू आया नहीं चितचोर
मनवा लागे नाहीं मोर
रहिया ताके मोरा मन
अंखियां बनी हैं चकोर
बैरन बनी रात चांदनी
काहे रे होत नहि भोर
सबके सजन आए घर
न आयल बलमा मोर
तड़पन है तन मन में
चलत नाहीं मोरा ज़ोर
-हरिगोविंद विश्वकर्मा

1 COMMENT