Home Blog Page 3

महाशिवरात्री महात्म्य

0

।।सत्य गीता ज्ञान सांगण्या शिव अवतरले भुवरी।
अति आनंदे करुया आपण महाशिवरात्री साजरी।।

कालचक्र हे अविरतपणे फिरतच असते आपणाजवळ शिल्लक राहतात त्या केवळ गतकाळातील स्मृती. त्या स्मृतींना उजाळा मिळावा म्हणून देखील सण किंवा उत्सव साजरे केले जातात. सुरुवातीचा थोडा काळ तत्संबंधी सद्भावना, श्रद्धा, स्नेह जिवंत असतात. पण जसजसा काळ सरत जातो तस तसा स्नेह व श्रद्धा यांचा कधीकधी अंत होतो व उरतात त्या केवळ परंपरा.आज काल जे सण व उत्सव साजरे केले जातात ते केवळ एक परंपरा म्हणून साजरे केले जातात असे म्हणणे निश्चितच अतिशयोक्तीचे ठरणार नाही. भारत हा संस्कृती प्रधान देश आहे. भारतात जितके सण व उत्सव साजरे केले जातात तितके संपूर्ण जगात सुद्धा साजरे होत नसतील. परंतु कुठलाही सण व उत्सव यामागील आध्यात्मिक रहस्य जर का जाणले गेले तर तो उत्सव साजरा करतानाचा आनंद काही औरच असेल नाही. आता लवकरच येऊ घातलेला तुम्हा आम्हा सर्वांच्या आवडीचा ‘शिवअवतरणोत्सव’ अर्थात महाशिवरात्री याबद्दल आज आपण थोडेसे जाणून घेऊया. स्वयंभू अजन्मा निराकार परमपिता परमात्मा शिवाचा ‘अवतरण उत्सव’ हा महाशिवरात्रीच्या रूपाने साजरा केला जातो. आत्म्यांचा जन्म होतो आणि परमात्म्याचे अवतरण. आत्मा आणि परमात्मा यांच्यात हेच मुख्य अंतर आहे. कर्मबंधनामुळे आत्मा मातेच्या गर्भातून जन्म घेतो आणि जन्ममृत्यूच्या फेऱ्यात येतो परंतु परमात्मा पुनर्जन्माच्या चक्रात येत नाही. परमात्मा शिव स्वयंभू आहे त्याचा कोणी पिता नाही. आपण संपूर्ण आयुष्यभर शिवपूजा करीत आलो व्रतवैकल्ये, जागरण करीत आलो तरीही मनुष्यमात्रांचा पाप, ताप संताप का बरे मिटला नाही? शिवरात्रीचे वास्तविक स्वरूप काय आहे? शिवरात्री खऱ्या अर्थाने कशी साजरी केली गेली पाहिजे? शिवाचा रात्रीशी काय संबंध आहे? इतर देवी देवतांच्या मूर्तीवर फुले फळे मिष्ठाने वगैरे वाहतात पण शिवावर मात्रअकवधोतर्‍याची फुले वाहिली जातात. शिवाने असे कुठले कर्तव्य केले त्याची आठवण म्हणून महाशिवरात्री साजरी केली जाते?

माघ महिना हा वर्षाचा अकरावा महिना, माघ महिन्यात कृष्ण पक्षात येणार्‍या त्रयोदशीला महाशिवरात्र साजरी करतात. म्हणजे अमावस्येच्या दोन दिवस आधी येणारी तिथी खर्‍या अर्थाने कलियुग अज्ञान (ईश्वरा विषयीचे अज्ञान) रुपी रात्र आहे, त्यातील कृष्ण पक्षाची चौदावी रात्र, काळीकभिन्न रात्र, महारात्र. त्याच रात्रीस होतो शिव अवतरणोत्सव. जिथे शिवाला शारीरिक रूपच नाही तेव्हा शिवासाठी दिवस व रात्र यात काय फरक? खऱ्या अर्थाने आपण हे देखील जाणतो शिवाला ‘अमरनाथ’ म्हणजेच अमर आत्म्यांचे पिता किंवा ‘मृत्युंजय’ म्हणतात तरीसुद्धा त्यांचा जन्मोत्सव का बरे साजरा करतात? याचे कारण यदा यदाही धर्मस्य ग्लानिर्भवती भारत। (अ ४ श्लोक ७) या गीतेतील वचनानुसार जेव्हा ही सृष्टी मनोविकारांच्या वशीभूत होऊन अज्ञानअंधकारात बुडालेली असते आणि लोक पतित तसेच दुःखी होऊन अज्ञान निद्रेत झोपलेले असतात, कामक्रोधादि विकारांनी मानव संपूर्णत: अशांत झालेला असतो, धर्माची ग्लानी झाल्यानेमनुष्य धर्मभ्रष्टकर्मभ्रष्टझालेला असतो. थोडक्यात आत्मा पूर्णतः शक्तीहीन झालेला असतो अगदी अशाच वेळी ज्ञानसूर्य परमात्मा शिव अज्ञानरूपी अंधकाराचा विनाश करण्यासाठी हतौत्साही झालेल्या आत्म्यांना ज्ञानाची नवसंजीवनी देण्यासाठी सृष्टीवर अवतरीत होतात. महाशिवरात्रीचा सण हा केवळ दहा-बारा तासांच्या रात्रीशी संबंधित नसून अज्ञान रात्री शी संबंधित आहे. रात्री लोक विकारांच्या वशीभूत होतात, रात्री सामाजिक नैतिक अपराधही खूप होतात. सर्वत्र तमो गुणांचं वातावरण असतं. आणि नेमक्या याच घडीला परमात्मा शिवाचे, या करुणाकाराचे, जगनियंत्याचे, तारण हाराचे परम धामातून सृष्टीवर अवतरण होते व परमात्मा शिव ज्ञानरूपी अमृतव योगरूपी प्रकाशा द्वारा समग्र मनुष्य मात्राला तमो प्रधानते कडून सतो प्रधान स्वरूपात स्थित करवतात. थोडक्यात आसुरी समाजाचे परिवर्तन करून दैवी समाजाची स्थापना करतात. परमात्म्याचे अवतरण प्रत्येक युगात एकदा किंवा अनेकदा होत नाही तर केवळ कलियुगाच्या अंतिम समयी संगम युगात अर्थात कलियुगाचा अंत व सत्ययुग् आदि त्यांच्या संधी काळात दिव्य अवतरण होते. परमात्मा शिव निराकार ज्योतिर्बिंदू स्वरूप असल्याने त्यांचे दिव्य अवतरण एका वृद्ध मानवी शरीरात १९३६ मध्ये झाले असून त्यांच्या मुखाद्वारे परमात्मा शिव सत्य गीता ज्ञान अर्थात मनुष्यमात्रांना अमर कथा सांगत आहेत. या ज्ञानाची धारणा केल्यानेच मनुष्य पाप,ताप,संताप या सर्वांपासून मुक्त होतो. मनुष्य देवता तुल्य बनतो तसेच भारत भूमी स्वर्ग भूमी बनते म्हणूनच यावर्षी देखील आपण परमपिता शिव परमात्म्याच्या दिव्य अवतरणाची ८७वी शिवजयंती मोठ्या आनंदाने व उत्साहाने विश्वभरात साजरी करणार आहोत.

महाशिवरात्री कशी साजरी करावी? सर्वप्रथम महाशिवरात्रीच्या दिवशी भक्तगण व्रत ठेवतात. वास्तविकव्रत ठेवणे हे प्रेमापोटी त्याग करण्याचे प्रतीक आहे. त्यामुळे ‘महाशिवरात्री’ निमित्त आपल्या कमकुवत वृत्तीचा त्याग करून सदैव सर्वांप्रती शुभ व श्रेष्ठ वृत्ती धारण करण्याचे व्रते घ्यावेत्यामुळे कृती देखील आपोआपच शुभ व श्रेष्ठ होईल. कारण कुठलीही चांगली अथवा वाईट गोष्ट ही प्रथम वृत्तित धारण होते व नंतर ती वाणी व कर्मात येते म्हणून श्रेष्ठ वृत्तीचे व्रत धारण करणे हीच खरी ‘महाशिवरात्री’ होय. शिवरात्रीचे पर्व हे शिव परमात्म्यावर बळी चढवण्याचे पर्व समजले जाते. याचेच प्रतीक म्हणून काही ठिकाणी बळी देखील चढवितात. परंतु मन बुद्धी व सर्व संबंधाने शिवावर समर्पित होणे म्हणजे बळी चढणे होय. आपल्यातील सर्वात मोठी कमजोरी म्हणजे देह अभिमानाची. देहभान व देह अभिमान परमात्म्यावर समर्पित करावा. शिवलिंगावर धोतरा वाहतात. ही फुले वाहण्यामागील रहस्य हे आहे की आपल्यातील विषतुल्यविकारांचे दान शिव परमात्म्याला देऊन जीवनात संपूर्ण पवित्रतेचे व्रत धारण करावे. भक्तगण महाशिवरात्रीच्या दिवशी जागरण करतात. वास्तविक कलियुगी अज्ञान रात्रीत ईश्वरी ज्ञानाद्वारे आत्मिक ज्योती सदैव जागृत ठेवणे अर्थात मन बुद्धीने जागृतावस्था आणणे हेच खरे जागरण आहे. शिवाची जितकी म्हणून नावे आहेत ती सर्व त्याच्या कर्तव्याचा परिचय देतात. उदाहरणार्थ ‘पशुपतिनाथ’ हे नाव घ्या. येथे पशु हा शब्द गाय वा इतर एखाद्या पशुचा वाचक नाही तर ‘आत्मा’ या शब्दाचा वाचक आहे. भारत तसेच परदेशात जे शैव मताचे लोक आहेत त्यांच्या मतानुसार आत्म्याला ‘पशु’ म्हटले गेले आहे.’पशु’ चा अर्थ आहे बांधलेला, आणि प्रत्येक आत्मा माया अर्थात काम क्रोधादि मनोविकार तसेच प्रकृतीच्या बंधनात अडकलेला असतो. म्हणूनच त्याला ‘पशु’ म्हटले जाते. शिव परमात्मा स्वतः बंधनापासून सदैव मुक्त आहे व आत्मरूपी पशूंना मायारूपी पाशापासून मुक्त करणारा आहे म्हणूनच त्याचे पशुपतिनाथ, पापकटेश्वर, मुक्तेश्वर, त्रिभुवनेश्वर इत्यादी नावांनी गायन पूजन केले जाते. आता प्रश्न उद्भवतो की शिवाने आत्मा रुपी पशूंना माया पाशातून कधी मुक्त केले की ज्यामुळे त्याचे नाव पशुपतिनाथ किंवा बाबुलनाथ पडले? त्याने मानव मात्रांची दुःखे कधी हरण केली की त्याला हर व दुःखहर्ता म्हटले गेले? अर्थातच जेव्हा अखिल मानव पतित किंवा पापी झालेले असतील, षङरिपुनी वेढलेले असतील, आणि दुराचाराने भारलेले असतील, असा काळ तर कलियुगाचा अंतिम समयच असतो. म्हणूनच कलियुगाच्या अंतिम समयी परमपिता शिव-परमात्मा जगाचे कल्याण करण्याकरिता या सृष्टीवर अवतरतो.

आपल्या भारतात बारा ज्योतिर्लिंगे प्रसिद्ध असून ती पूर्व पश्चिम उत्तर दक्षिण आणि मध्य भागात आढळतात. ती भारतवासीयात भावनात्मक एकात्मता देखील उत्पन्न करतात. भारताबाहेरील देशांमध्ये ही अशाच प्रकारच्या शिवप्रतिमा स्थापित झालेल्या आढळतात. त्या शिवप्रतिमेचे देखील मनोभावे गायन व पूजन केले जाते. जपानमध्ये बौद्ध अनुयायी शिवलिंग् समान प्रतिमा ‘चीन किनसेकी’ समोर ठेवून तिच्यावर मन एकाग्र करतात. इंडोनेशियाच्या जावा व सुमात्रा या दोन्ही ठिकाणी शिवाचे गुणगान होत असताना दिसते. इजराइल देशातही एक शिवलिंग ज्याला ‘बेलफेगो’म्हटलेजाते, शपथ घ्यायचा रिवाज तेथील जनमानसात आहे. चीन देशात शिवलिंगाची उपासना ‘होवेडहिपुह” नावाने चिनी लोक करतात. स्कॉटलंडच्या ग्लास गो शहरात देखील शिवलिंग आहे. इजिप्त मध्ये शिवलिंगाची पूजा आईसीस वओसिरिस नावांनी होते. शिवलिंगाला शिऊन म्हटले जाते. इटली देशातील रूस शहरात शिवलिंगास ‘प्रियपस’ म्हटले जाते.ग्रीस मध्ये शिवलिंगाचे फल्लुस हे नाव आजही प्रचलित आहे, फल्लुस या ग्रीक शब्दाचा अर्थ संस्कृतात ‘फलेश’ अर्थात त्वरित फळ देणारा असा होतो. ऑस्ट्रिया तसेच हंगेरीत ‘तंत्रिस्वक’ नामक शिवलिंगाची उपासना केली जाते. मलेशिया, जर्मनी, स्पेन, सिंगापूर, श्रीलंका, वर्मा, मेक्सिको इत्यादी देशातही शिवलिंगाची उपासना केली जाते. येशू ख्रिस्त, गुरुनानक, पैगंबरयांनीही परमात्म्याला ज्योती स्वरूपच मानले आहे. थोडक्यात शिव परमात्म्याच्या प्रतिमेला विश्वातील सर्व धर्मातील लोक परमेश्वर मानतात. शिव परमात्मा विश्ववंदनीय आहे हे आपणास यावरुनप्रत्ययास येते. थोडक्यात महाशिवरात्री हा सण केवळ भारत वासियांचा नसून सर्व विश्व बांधवांचा आहे.

नुतन रव्रिंद्र बागुल
ब्रह्मकुमारी (गामदेवी)

हे पण वाचा – शिवसेना: कोण जिंकणार कोण हरणार?

‘धर्मयुग’ ने दिए साहित्यिक और सांस्कृतिक संस्कार – पुष्पा भारती

0

मुंबई। डॉ. धर्मवीर भारती ने ‘अभ्युदय’ के संपादक पद्मकान्त मालवीय और ‘संगम’ के संपादक इलाचंद्र जोशी से पत्रकारिता के गुर सीखे थे। उनकी यही सीख ‘धर्मयुग’ में प्रतिबिम्बित हुई, जिसके वे संपादक थे। ये विचार प्रख्यात लेखिका पुष्पा भारती ने साप्ताहिक ‘सब्जेक्ट मंथन’ (संपादक: महेश अग्रवाल) के ‘साहित्य समग्र’ विशेषांक का लोकार्पण करते हुए व्यक्त किए। इस विशेषांक के अतिथि संपादक वरिष्ठ पत्रकार विमल मिश्र हैं। पुष्पा भारती बांद्रा के उत्तर भारतीय संघ के सभागार में आयोजित कार्यक्रम में हुए सत्कार समारोह में बोल रही थीं। समारोह में ‘धर्मयुग’ के वरिष्ठ पत्रकार व कलाविद मनमोहन सरल और इस पत्रिका के संपादक रहे विश्वनाथ सचदेव का भी सम्मान किया गया। इससे पहले एक अन्य समारोह में पत्रिका का विमोचन महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने किया।


आयोजन में ‘धर्मयुग: यादें बाकी हैं’ विषय पर विशद चर्चा हुई। पत्रिका की यह आवरण कथा ‘धर्मयुग’ से जुड़ी रहीं वरिष्ठ पत्रकार सुदर्शना द्विवेदी ने लिखी है। आयोजन में ‘धर्मयुग’ से जुड़े रहे लगभग 20 लोगों ने अपने – अपने हिस्से के ‘धर्मयुग’ को याद किया। दिग्गज कथाकार सूर्यबाला ने कहा, ‘धर्मयुग ने हमें न केवल साहित्यिक, बल्कि सांस्कृतिक मूल्यों को अक्षुण्ण रखने के भी संस्कार दिए जो जीवन में बहुत काम आए।’ कथाकार,पत्रकार हरीश पाठक ने कहा, ‘धर्मवीर भारती का लिखा शब्द-शब्द इतिहास है।’ सुदर्शना द्विवेदी ने कहा, ‘धर्मयुग कालांतर तक तमाम मनों और दिलों में धड़कता रहेगा।’

डॉ. शोमा घोष, अनुराग चतुर्वेदी, हरि मृदुल, अनुराग त्रिपाठी, सुनील मेहरोत्रा, डॉ. शीतला प्रसाद दुबे, कमलेश पाठक, आदि ने ‘धर्मयुग’ को लेकर अपने अनुभव साझा किए। इस आत्मीय उत्सव का संयोजन वरिष्ठ पत्रकार ओमप्रकाश सिंह व संचालन ओमप्रकाश तिवारी ने किया। इस अवसर पर ‘धर्मयुग’ से जुड़े विनीत शर्मा, ऊषा मखीजा, शहनाज राजन, मंगला कुंडेटकर, शहनाज राजन, वसंत नाफड़े, आदि के साथ राधेश्याम तिवारी, शुभंकर घोष, हूबनाथ पांडेय, चित्रा देसाई, अनुराधा सिंह, विनोद दास, ओमा शर्मा, गंगाशरण सिंह, डॉ. दयानंद तिवारी, देवमणि पांडेय, विजय सिंह,अभय मिश्र, अनिल गलगली, हरगोविंद विश्वकर्मा, राजकुमार सिंह, विजय सिंह, अनिल गलगली,जगदीश अग्रवाल, अभय मिश्र आदि साहित्य, कला, संस्कृति, पत्रकारिता, फिल्म और रंगमंच से जुड़े लोग मौजूद थे।

धीरेंद्र मजूमदार की मां – इंसानी संवेदना से रूबरू करता एक नाटक

0

नाटक में उठता सवाल, वैश्विक युग में व्यक्ति की पहचान सीमित करने के प्रयास क्यों?

हरनाम सिंह और संदीप कुमार
इंसानी संवेदना असीम होती है। वह सरहद और भौतिक दूरियों से परे होती है। तभी तो सुदूर दक्षिण भारतीय मलयाली लेखिका ललिताम्बिका अतंर्जनम पूर्वी भाग बंगाल की पीड़ा पर कहानी लिखती है और उस पीड़ा को मध्यप्रदेश के दो नगरों इंदौर और भोपाल के दर्शक अपने सीने में बड़ी शिद्दत से महसूस करते हैं। यह संवेदना ही ‘धीरेंद्र मजूमदार की मां’ को नाटकों की फेहरिस्त में उच्च स्थान पर रखती है। यही वजह है कि इन दिनों रंगकर्म के क्षेत्र में भारतीय जन नाट्य संघ (इप्टा) इंदौर इकाई की प्रस्तुति यह नाटक चर्चा का विषय बना हुआ है।

नाटक “धीरेंद्र मजूमदार की मां” ने दर्शकों को आजादी की लड़ाई के अनसुने किस्से से रूबरू करवाया बल्कि यह भी बताया कि कैसे क्रांतिकारियों की सोहबत में परंपरावादी मूल्यों के साथ अपने घर परिवार में व्यस्त रहने वाली महिला की चेतना में अभूतपूर्व विकास होता है। नाटक ने अपने कथ्य के सहारे समकालीन प्रश्नों को छूते हुए दर्शकों को विचार करने पर विवश कर दिया कि वैश्विक युग में आखिरकार व्यक्ति की पहचान सीमित क्यों की जा रही है?

इंदौर के प्रेस क्लब के राजेंद्र माथुर सभागृह तथा भोपाल के रंगश्री लिटिल बैले ट्रुप नाट्यगृह में ‘धीरेंद्र मजूमदार की मां’ नाटक के मंचन को दर्शकों की भावपूर्ण प्रतिक्रिया मिली। स्वतंत्रता के 75वें वर्ष के उपलक्ष में जया मेहता व विनीत तिवारी के निर्देशन में सुप्रसिद्ध अभिनेत्री फ्लोरा बोस की एकल नाट्य प्रस्तुति को दर्शकों ने भीगे मन, नम आंखों और करतल ध्वनि से सराहा।

विनीत तिवारी द्वारा अनुवादित ललिताम्बिका अतंर्जनम की कहानी पर आधारित नाटक अतीत और वर्तमान के बीच आवाजाही करता है। यह यात्रा दर्शक को कथानक के मर्म तक पहुंचने में मददगार बनती है। भारत की आजादी की लड़ाई से प्रारंभ धीरेंद्र मजूमदार की मां शांति मजूमदार की कहानी बरास्ते बांग्लादेश के निर्माण के साथ आखिरकार भारत के एक शरणार्थी शिविर में आकर समाप्त होती है। जहां से उठे कई सवाल देश की राजनीति और वर्तमान से टकराते हैं।

धीरेंद्र मजूमदार की मां की कहानी एक जमींदार परिवार की नितांत घरेलू स्त्री के स्वतंत्रता सेनानी बनने की कहानी है। एक ऐसा परिवार जिसकी बीमार स्त्री सदस्य के इलाज के लिए पुरुष डॉक्टर की सेवा इसलिए नहीं ली जाती क्योंकि वह पर पुरुष है। भले ही रोगी महिला की मौत ही क्यों ना हो जाए। ऐसा परिवार जिसकी हवेली के बाहर 50 वर्षों तक ना निकल सकने वाली नायिका न केवल क्रांतिकारियों की साथी बनती है, अपितु सांप्रदायिक हिंसा के शमन के लिए गांधीजी का साथ देती है। यही नहीं बांग्लादेश की मुक्ति के लिए चले संग्राम में भी अपना योगदान सुनिश्चित करती है।

देश में औपनिवेशिक आजादी के लिए चले जन संग्राम का परिणाम सांप्रदायिक आधार पर देश विभाजन के रूप में सामने आया। देश के बंटवारे का दंश अनेक स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को भी भुगतना पड़ा था जो विभाजन नहीं चाहते थे। ऐसे ही लोगों में धीरेंद्र मजूमदार की मां शांति मजूमदार भी थी। वह मां जिसकी चार संतानों ने अंग्रेजों से हुई लड़ाई में शहादत दी और बाकी चार ने बांग्लादेश के लिए चले मुक्ति संघर्ष में अपनी जान गंवाई। वही मां भारत में आकर शरणार्थी कहलाती है।

दो-दो अत्याचारी शासकों से पीड़ित अनेक अन्य लोगों की तरह शांति मजूमदार के सामने भी पहचान का संकट आ खड़ा हुआ कि वह स्वतंत्रता संग्राम सेनानी हैं? स्वदेशी है? विदेशी है? नाटक में बड़े पर्दे पर वीडियो क्लिप के माध्यम से पूर्वी और पश्चिमी पाकिस्तान के संघर्ष, बंगाली मुसलमानों के भीषण दमन एवं शेख मुजीब उर रहमान की राजनीतिक यात्रा को बखूबी दर्शाया गया। नाटक देखने आए युवाओं को पाकिस्तान, बांग्लादेश और भारत के इतिहास के कालखंड को सजीव देखने का अवसर मिला।

नाटक अपनी मार्मिक कथावस्तु एवं वैचारिक आधार के साथ दर्शकों को बांधे रखता है। एकल एकांकी नाटकों में एक कलाकार एक घंटे से अधिक समय तक दर्शकों को सम्मोहित कर सके यही फ्लोरा बोस की सफलता और अभिनय क्षमता थी। वैसे भी एकल अभिनय आसान नहीं होता। सामूहिक अभिनय के मुकाबले वह जटिल होता है। कथानक को पूर्णता के साथ आगे ले जाने की जिम्मेदारी एक ही कलाकार की होती है। धाराप्रवाह संवाद अदायगी के साथ धीरेंद्र मजूमदार की मां के अंतर्द्वंद को प्रदर्शित करने में भी फ्लोरा बोस सफल रही है।

नाटक के आखिरी हिस्से में देश की समकालीन राजनीति, अल्पसंख्यकों तथा देश की विभिन्न क्षेत्रीयता वाले नागरिकों के साथ राज्य का व्यवहार सामने आया है। शाहीन बाग की दादियां हो या मुंबई में भैया कहलाने वाले उत्तर भारतीय, सबको अपने-अपने स्तर पर अपनी-अपनी पहचान के लिए जूझना पड़ रहा है। नाटक भारत के भीतर नागरिकता कानून के तहत बिना दस्तावेजों के नागरिकों को डिटेंशन कैंप की धमकियों और उसकी सच्चाई से अवगत कराता है।

नाटक के प्रारंभ में जया मेहता और विनीत तिवारी ने नाटक की पृष्ठभूमि के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि स्वतंत्रता के 75 वर्षों में आजादी की लड़ाई और उसके सेनानियों को याद रखने की जरूरत है, ताकि वर्तमान समस्याओं के स्त्रोत को समझा जा सके। नाटक के अंत में जया मेहता और फ्लोरा ने आजादी की लड़ाई में अपने-अपने परिवारों की भागीदारी को दर्शकों से साझा किया। सूत्रधार के रूप में विनीत तिवारी ने कहानी के कलेवर को अपनी टिप्पणियों से आसान बनाया। इंदौर भोपाल में मंच पर प्रकाश व्यवस्था की जिम्मेदारी प्रगल्भ क्षोत्रीय ने कुशलतापूर्वक निभाई।

दर्शकों की प्रतिक्रिया परिचर्चा के साथ

भोपाल में नाटक के बाद हुई चर्चा में वरिष्ठ कथाकार रमाकांत श्रीवास्तव ने नाटक की पूरी टीम को अच्छी प्रस्तुति के लिए बधाई दी। उन्होंने सन 1971 के बांग्लादेश मुक्ति संग्राम और शेख मुजीब उर रहमान को याद करते हुए उस घटना को भी याद किया कि मुजीब की जान को खतरा था और वे यह जानते थे लेकिन उन्हें अपने देश और जनता पर पूरा भरोसा था। हालांकि इसकी कीमत उन्हें अपनी जान देकर गंवानी पड़ी।

वरिष्ठ कवि-कथाकार कुमार अंबुज ने कहा कि यह नाटक धीरेंदु मजूमदार की मां के संघर्षों कहानी है और यह नाटक बार-बार मैक्सिम गोर्की के उपन्यास ‘मां’ और महाश्वेता देवी के ‘हजार चौरासी की मां’ की याद दिलाता है। नाटक को मार्मिकता से भरी प्रस्तुति करार देते हुए कहा कि उसके साथ ही यह नाटक युद्ध और विस्थापन तथा बदलाव की एक पूरी प्रक्रिया को अपने आप में समेटे हुए है जो समाज के सामने कई प्रश्न खड़े करता है।

कवि अनिल करमेले ने कहा कि ‘धीरेंद्र मजूमदार की मां’ अपना संदेश देने में पूरी तरह सफल रहा है। देश में स्त्रियों, दलितों और अल्पसंख्यकों के लिए जिस प्रकार जगह कम होती जा रही है उस पीड़ा को भी नाटक सामने रख पाता है। उन्होंने कहा कि यह जरूरी समय है जब हमें अपने समाज को संविधान के अनुरूप बनाना होगा।

युवा पत्रकार और कवि पूजा सिंह ने कहा कि नाटक भले ही अपने आप में एक बड़े राजनैतिक और सामाजिक परिदृश्य को समेटे हुए है लेकिन फ्लोरा बोस का अभिनय इतना प्रभावशाली है कि पूरे समय हमारे देश काल की कई मांएं- मसलन नजीब की मां और रोहित वेमुला की मां भी हमें याद आती रही। उन्होंने कहा कि क्रांतिकारियों के जीवन संघर्ष, शांति मजूमदार में आए क्रांतिकारी बदलाव के जिक्र के साथ नाटक बंधुत्व और स्वतंत्रता समेत तमाम जीवन मूल्यों की महत्ता भी बताता है।

इनके अलावा नगीन तनवीर, संध्या शैली समेत अनेक अन्य प्रबुद्ध दर्शकों ने अपनी प्रतिक्रिया दी। उज्जैन के शशि भूषण ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि यह नाटक इतिहास के साथ वर्तमान राजनीति और मनुष्यता का मिलाजुला स्वरूप प्रस्तुत करता है। नाटक दर्शकों को रस मग्न करने के साथ प्रश्न विद्ध भी करता है। नाटक देखते ऐसा लगा कि हम हम निरे दर्शक नहीं किसी बड़े जन आंदोलन का हिस्सा हैं।

पर्यावरण प्रेमी सामाजिक कार्यकर्ता राजेंद्र सिंह ने कहा कि ‘धीरेंद्र मजूमदार की मां’ से कई ऐतिहासिक जानकारियां मिली। अपने समय में प्रतिष्ठित रायबहादुर परिवार के सदस्यों ने आजादी की लड़ाई में जो कुर्बानियां दी वे अभूतपूर्व थी। बावजूद इसके नागरिकता के लिए प्रमाण मांगना शर्मनाक है।

अनूपपुर के विजेंद्र सोनी के अलावा हरनाम सिंह, मेघा गोस्वामी, अतिरिक्त जिला न्यायाधीश राजेश अग्रवाल, गोपाल यादव, करुणा सोनी, दीपाली चौरसिया ने भी कहा कि नाटक आजादी के आंदोलन से लेकर नागरिकता और पहचान के सवालों से टकराता है। नाटक के अंत में जिंदगी ने एक दिन कहा कि तुम उठो… तुम उठो… जन गीत प्रेरित करता है।

नाट्य प्रस्तुति में सारिका श्रीवास्तव, शर्मिष्ठा बनर्जी, प्रमोद बागड़ी, अशोक दुबे, गुलरेज खान, तौफीक मुबारक, असद सिद्दीकी, उजान बनर्जी, कत्यूषा बनर्जी, साजिद खान, वंशिका मिश्रा, ताहिर मिर्जा, फैजान शेख, ताशिव पटेल, रविशंकर, शिवम शुक्ला, प्रगल्भ श्रोत्रिय ने महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई।

इसे भी पढ़ें – कहानी – बदचलन

पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों व मुहाजिरों की हालत बहुत दयनीय – असगर वजाहत

0

चित्रनगरी संवाद मंच मुंबई की 101वीं महफिल सजी

मुंबई, पाकिस्तान और ईरान समेत दुनिया के कई देशों की यात्रा करने और यात्रा संस्मरण लिखने वाले सुप्रसिद्ध सैलानी और साहित्यकार असगर वजाहत (Asghar Wajahat) ने भारत में अल्पसंख्यकों के साथ कथित तौर पर दोयम दर्जे के व्यवहार का रोना रोने वाले लोगों को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि ऐसे लोगों को पाकिस्तान जाकर वहां अल्पसंख्यकों की हालत देखनी चाहिए। पाकिस्तान में तो अल्पसंख्यकों को इंसान ही नहीं समझा जाता है। इतना ही नहीं विभाजन के समय जो मुसलमान पाकिस्तान गए थे, उन्हें तिरस्कार से मुहाजिर संबोधित किया जाता है और गरीब मुहाजिरों के साथ भी घोर पक्षपात और सौतेला व्यवहार किया जाता है।

श्री वजाहत ने रविवार की शाम चित्रनगरी संवाद मंच मुंबई के साप्ताहिक अड्डेबाजी में बतौर अतिथि पाकिस्तान, ईरान, यूक्रेन, अंडमान निकोबार और पूर्वोत्तर राज्यों से जुड़ी अपनी यात्राओं के कई रोचक प्रसंग और संस्मरण सुनाए और श्रोताओं के सवालों के बेबाकी से जवाब दिए। श्री वजाहत ने कहा कि एकाध अपवादों को छोड़ दें तो भारत के अल्पसंख्यक भाग्यशाली है कि उनके साथ किसी तरह का पक्षपातपूर्ण व्यवहार नहीं किया जाता। लेकिन पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों व मुहाजिरों की हालत बहुत चिंताजनक है।

श्री वजाहत ने कहा कि पाकिस्तान में अगर पठानों और मुहाजिरों के बीच संघर्ष होता है तो पठानों का इलाज बढ़िया अस्पतालों में होता है, जबकि मुहाजिरों का उपचार सुविधाविहीन अस्पताल में होता है। उन्होंने कहा कि उनका यह अनुभव है कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यक बिल्कुल खुश नहीं रहते। उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी सेना के बारे में एक लतीफा मशहूर है कि पाकिस्तानी सेना की सबसे बड़ी उपलब्धि यह है कि उसने पाकिस्तान पर विजय प्राप्त कर ली है।

पाकिस्तान में एक बार अल्पसंख्यकों की हालत जानने के लिए एक बार श्री वजाहत ने लाहौर में किसी हिंदू मंदिर में जाने की इच्छा जताई। लेकिन कई घंटे भटकने के बाद उन्हें लाहौर जैसे शहर में भी कोई मंदिर नहीं मिला। श्री वजाहत ने बताया कि 6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि के विवादास्पद ढाचें को गिराने की खबर जैसे ही पाकिस्तान के मुल्तान में पहुंची, वहाँ कई सदी पुराने ऐतिहासिक सूर्य मंदिर ज़मींदोज़ कर दिया गया। सबसे बड़ी बात सूर्य मंदिर जो किसी मस्जिद के ऊपर नहीं बनाया गया था।

एक अन्य संस्मरण का जिक्र करते हुए श्री वजाहत ने कहा, “एक बार मेरे विभाजन के समय मुल्तान से घर-बार छोड़कर भारत आए मेरे एक करीबी हिंदू मित्र ने कहा कि पाकिस्तान जा रहे हो तो मुल्तान में मेरी हवेली की खींचकर फोटो लेते आना। उन्होंने पता बताते हुए कहा कि मेरी हवेली मुल्तान के दिल्ली गेट से आगे गुरुद्वारे के पास तीसरी गली में चौथा मकान है। जब मैं वहां पहुंचा तो कोई गुरुद्वारा नहीं मिला। पता करने पर एक बुजुर्ग ने बताया कि हां, यहां एक गुरुद्वारा होता था, लेकिन वह धीरे-धीरे खंडहर बन गया और जमीदोज हो गया। अब उस जमीन को दूसरे लोगों ने अपने कब्जे में ले लिया है। बहरहाल मैंने वहा का एक फोटो खींचा और वापस हो लिया।”

कथाकार सूरज प्रकाश ने अपनी महत्वपूर्ण शोधपरक किताब लेखकों की दुनिया में से दुनिया भर के लेखकों के रोचक क़िस्से सुनाए और रचनाकारों की अनोखी आदतों के बारे में बताया। उन्होंने ज़ोर दे कर कहा कि लेखन कहीं का भी हो, कम से कम अय्याशी नहीं होता। दुनिया भर के लेखकों ने अपने अपने स्तर पर तकलीफ़ें पायीं और अपना श्रेष्ठ हमें दिया।संवाद मंच की तीसरी कड़ी के रूप में सूरज प्रकाश की ही कहानी “दो जीवन समांतर” का आकर्षक और छू लेने वाला नाट्य मंचन पौड़ी गढ़वाल के संवाद नाट्य ग्रुप ने किया। पुरुष पात्र की भूमिका नाटक के निर्देशक अनूप गुसाईं ने निभायी और दीप्ति का पात्र जसप्रीत कौर ने निभाया। श्रोताओं ने पूरा कार्यक्रम बहुत मनोयोग से सुना।

कार्यक्रम की शुरूआत में सूरज प्रकाश ने मेहमानों का स्वागत करते हुए देवमणि पांडेय को कल मिले डॉ हरिवंशराय बच्चन साहित्यरत्न पुरस्कार के लिए बधाई दी। कार्यक्रम का समापन करते हुए देवमणि पांडेय ने फरवरी माह में होने वाले चारों कार्यक्रमों की जानकारी दी और सबसे अनुरोध किया कि वे इन सभी कार्यक्रमों में आएं और भागीदारी करें। चित्रनगरी संवाद मंच मुम्बई की इस बार की शाम अद्भुत और ख़ास रही कि आज इसकी 101वीं महफ़िल सजी थी। हालांकि चित्रनगरी संवाद मंच का गठन कोरोना काल में ही हो गया था लेकिन 2021 के वैलेंटाइन डे के दिन ही बड़े पैमाने पर आयोजनों की शुरुआत हो पायी थी और उसके बाद से इस मंच की नियमित गोष्ठियां, आयोजन और अड्डेबाजियां होती रहीं।

एक लंबा सफर तय करने के बाद आज यह मंच इस मुकाम पर आ पहुंचा है कि साहित्य प्रेमी और कला प्रेमी लोग अब फ़ोन, संदेश या विज्ञप्ति का इंतज़ार नहीं करते और सूचना भर मिलने पर कार्यक्रम में शामिल होने के लिए स्वयं ही चले आते हैं। यह बात का संकेत भी है कि मुम्बई में ऐसे मंच की कितनी ज़रूरत थी और इस संवाद मंच ने सभी साहित्य प्रेमियों को जोड़ने का काम किया है। अब साहित्य प्रेमी दूर-दूर से आकर इसके साप्ताहिक कार्यक्रमों में शामिल होने लगे हैं। हर बार नये श्रोता जुड़ते हैं और एक दूजे तक इसके आयोजनों के बारे में ख़बर पहुंचाते हैं।

दर्शक दीर्घा में अभिनेता राजेंद्र गुप्ता, डॉ सत्यदेव त्रिपाठी, नवीन चतुर्वेदी, गंगाराम राजी, ओम प्रकाश तिवारी, हरि मृदुल, सुभाष काबरा, पूनम विश्वकर्मा, आभा दवे, शैलेन्द्र गौड़, प्रीति गौड़, असीमा भट्ट, मीता दास, रीता दास राम, प्रदीप गुप्ता, बसंत आर्य, डॉ मधुबाला शुक्ला, किरण भट्ट, रौनक खान, मधु अरोड़ा, डॉ दमयंती शर्मा, आदि का समावेश था। यह चित्रनगरी संवाद मंच मुंबई 101 वां कार्यक्रम था। कार्यक्रम की व्यवस्था कवि राजेश ऋतुपर्ण ने संभाली।

बेटियों को उच्च शिक्षा दिलाना हर माता-पिता का नैतिक दायित्व – पुरुषोत्तम चतुर्वेदी

0

जुहू चौपाटी के बिड़ला गार्डन में हुआ मुशायरा एवं कवि सम्मेलन

मुंबई। जुहू हमारा से संस्थापक सदस्य एवं संयोजक और शिवसेना की राज्यसभा सदस्य प्रियंका चतुर्वेदी के पिता पुरुषोत्तम चतुर्वेदी ने लड़कियों को उच्च शिक्षा दिलाने पर जोर देते हुए कहा है कि बेटियों को उच्च शिक्षा दिलाना और उन्हें अपने पांव पर खड़े होने में मदद देना हर माता-पिता का नैतिक दायित्व एवं कर्तव्य है।

मुंबई, छह दिवसीय ‘जुहू हमारा 2023’ फेस्टिवल में सोमवार की शाम जुहू चौपाटी के बिरला गार्डन में कलाकारों एवं स्थानीय लोगों को संबोधित करते हुए श्री चतुर्वेदी ने कहा कि उनकी भी चार बेटियां हैं। उन्होंने चारों को उच्च शिक्षा दिलवाई और आज उनकी बेटियां ही उनका नाम रौशन कर रही हैं।

जुहू में चल रहे हमारा – 2023 फेस्टिवल में बिरला गार्डन में शायर नवीन चतुर्वेदी के नेतृत्व में मुशायरा एवं कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। जिसमें शहर के प्रमुख कवियों एवं शायरों ने हिस्सा लिया। नवीन चतुर्वेदी ने हिंदी, उर्दू और ब्रजभाषा के अलावा श्रोताओं की फ़रमाइश पर गुजराती गजलें भी सुनाईं। शायर-गीतकार देवमणि पांडेय हमेशा की तरह अपने रंग में थे। उन्होंने रूमानी ग़ज़लों के साथ साथ हास्य रचनाओं से लोगों को खूब हंसाया।

शायरा-गायिका पूनम विश्वकर्मा ने दिलकश तरन्नुम में ग़ज़ल और अवधि लोकगीत सुनाकर श्रोताओं को सम्मोहित किया। गीतकार-गायक विनोद दुबे ने डफली साथ कई गीत पेश किए। विनय नवीन और दिलीप दोशी की रचनाओं का भी श्रोताओं ने जमकर लुत्फ़ उठाया। डॉ दमयंती शर्मा ने कुछ माहिए सुना कर श्रोताओं को भाव-विभोर कर दिया।

1972 में मथुरा से मुबंई आने और कस्टम विभाग से बतौर डिप्टी कमिश्नर रिटायर होने वाले नंदकिशोर चतुर्वेदी ने बताया कि जुहू हमारा फेस्टिवल को 20 साल पहले शुरू किया गया था। दरअसल, 1990 के दशक में दक्षिण मुंबई में ‘कल के कलाकार’ हुआ करता था। जिसमें उभरते कलाकारों को प्रोत्साहन दिया जाता था।

उन्होंने बताया कि नई सदी में उसी तर्ज पर उपनगर के उभरते कलाकारों को अवसर देने के लिए जुहू हमारा फेस्टिवल 2003 में शुरू किया गया। वस्तुतः जुहू और आसपास तरह-तरह के लोग रहते हैं। अलग-अलग परिवेश के लोग रहते हैं। उन सबको एक मंच पर लाने और संस्कृति गतिविधियों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से जुहू हमारा अभियान शुरू किया गया था।

जुहू हमारा के अध्यक्ष हंसल डिसूज़ा बताते हैं कि जुहू हमारा फेस्टिवल को 20 साल पहले शुरू किया गया था। उस समय फिल्म स्टार को देखने उनके साथ बातचीत करने के लिए लोग बड़े उत्सुक रहते थे। तो हमारे फेस्टिवल में बड़े-बड़े सितारे आया करते थे। हमारे फेस्टिवल में शाहरुख खान, आमिर खान, ऋतिक रोशन, माधुरी दीक्षित, शाबाना आज़मी समेत कई बड़े कलाकार जुहू हमारा फेस्टिवल में आ चुके हैं।

उन्होंने बताया कि हेमा मालिनी ने तो यहाँ अपनी बेटियों के साथ डांस भी किया था। फिल्म स्टार्स के आने पर यहां भारी भीड़ जुट जाती थी, जो हम लोगों से नियंत्रित नहीं होती थी। इसलिए हम लोगों ने इस फेस्टिवल में सितारों को बुलाना बंद कर दिया। लोग फिल्म स्टार को देखने आते थे। गीत-संगीत या शायरी सुनने नहीं। इसमें हम लोग आम कलाकारों को मौका देते हैं। धीरे-धीरे यह जनता का फेस्टिवल बन गया।

हमारा फेस्टिवल के संयोजक पुरुषोत्तम चतुर्वेदी ने कवियों और शायरों का सम्मान किया। श्रोताओं में पत्रकार परविंदर कौर, पत्रकार चंद्रकांत जोशी, शायर ताज मोहम्मद सिद्दीक़ी और कवयित्री डॉ रोशनी किरण आदि समेत बड़ी संख्या में गजलप्रेमी मौजूद थे।

स्मृति: लेनिन – औद्योगिक क्रांति और विश्व युद्ध के बाद बीसवीं सदी की नस्लें चारों ओर से पुकारती रहीं ‘क्या करें’?

0
डॉ. वंदना चौबे

मुक्तिबोध पूछते हैं- ‘क्या करूँ/ कहाँ जाऊं/ दिल्ली या उज्जैन’
इस बेचैनी में गति है, तनाव है लेकिन नामवर सिंह ने निर्मल वर्मा की जिस ‘परिंदे’ कहानी को पहली आधुनिक हिन्दी कहानी का दर्ज़ा दिया; उस कहानी की पात्र लतिका परिंदों की मार्फ़त जिस ‘क्या करूँ? कहाँ जाऊं?’ से जूझ रही है उसमें गति नहीं है। यह आधुनिकता, उत्तर-आधुनिकता के विभ्रम की तैयारी है जो सत्य के वस्तुगत रूप की जिज्ञासा की बजाय सत्य को झिलमिल-झिलमिल करता है। यही कारण है कि परिंदे की नायिका तनावग्रस्त होकर भी सत्य की ठोस पहचान नहीं करती। वह अलगाव से गुज़रते हुए आत्मग्रस्त होती है। आत्मग्रस्तता को ही द्वंद्व और तनाव समझती है। पूंजीवाद की बुनियाद से उपजे अलगाववाद के कारण अब यह प्रश्न और भयावह हो गया है कि – ‘क्या करें?’

युवाओं को रोज़गार नहीं, मज़दूरों के पास काम नहीं, जिनके पास काम वे न्यूनतम वेज पर काम करने को बाध्य हैं। मध्यवर्ग उत्तर-आधुनिकता के रास्ते उत्तर-सत्य में विचर रहा है। बौद्धिक शास्त्रार्थ विलास को ज्ञान समझकर मगन हैं। स्त्रियां और दलित अपने-अपने स्त्रीवाद और दलितवाद के खोल में स्वतन्त्र हैं।

क्रांति से पहले 1902 में प्रकाशित लेनिन की महत्वपूर्ण किताब ‘क्या करें’ ऐसे ही बिखरे हुए समाज को संगठित करने की योजनाबद्ध किताब है। एक ऐसे समाज में जहाँ तमाम विभ्रम अब सिद्धांत बन गए हैं लेनिन की यह किताब कितनी ज़रूरी है; यह इसे पढ़कर जाना जा सकता है। हालांकि यह किताब पार्टी संगठन के संदर्भ में तत्कालीन कथित मार्क्सवादी विचारकों को एक जवाब है। रोबेचेये मीस्ल को इस्क्रा पत्रिका की ओर से जवाब है; बावजूद इसके यह किताब हमारे समय के विभ्रमों से उबरने के लिए ज़रूरी किताब है। सामाजिक-जनवादियों ख़ासतौर पर बर्नस्टीन जिनका मानना था कि सामाजिक क्रांति सुधार की मार्फ़त भी क्रांति कर सकती है। लेनिन ने इस किताब में बर्नस्टीन को परत दर परत उघाड़ दिया है और उनके भीतर के अवसरवाद और अर्थवाद आइने की तरह साफ़ कर दिया है।

लेनिन अन्याय के ख़िलाफ़ जनता के स्वतःस्फूर्त भावना को समझते हैं लेकिन स्वतःस्फूर्तता को अगर राजनीतिक चेतना से तेज़ न किया जाय तो वह जनता का पवित्र अनियोजित आक्रोश भीड़ भर है। क्रांति को सुधार के रस्ते ले जाकर जनता स्वतःस्फूर्तता पर छोड़ने वाले अवसरवादियों का लेनिन ने पर्दाफ़ाश किया है। इसी तरह मज़दूरों की हिमायत के नाम पर केवल ट्रेड यूनियन करने वाले अर्थवादियों की भी लेनिन ने धज्जियां उड़ा दी हैं।

अर्थवाद और अराजकतावाद को स्पष्ट कर दिया। संगठित होने के नौसिखुएपन पर उन्होंने ठोस लिखा- “इस काल में समस्त विद्यार्थी युवकों का समुदाय मार्क्सवाद में डूबा हुआ था। ज़ाहिर है कि यह विद्यार्थी मार्क्सवाद में केवल एक सिद्धांत के रूप में नहीं डूबे हुए थे, बल्कि यूं कहें कि वे एक सिद्धांत के रूप में उसकी ओर इतना ज्यादा नहीं हुए थे जितना इसलिए कि वह उन्हें इस प्रश्न का उत्तर देता था “क्या करें?”, उसे वे दुश्मन के खिलाफ मैदान में उतर पड़ने के आह्वान के रूप में देखते थे। और यह नए योद्धा बहुत ही भोंडे हथियार और प्रशिक्षा लेकर मैदान में उतरते थे। बहुत से उदाहरणो में तो उनके पास प्रायः एक भी हथियार और ज़रा भी प्रशिक्षा नहीं होती थी। वे इस तरह लड़ने चलते थे, मानों किसान खेत में अपने हल छोड़कर और केवल एक-एक लाठी हाथ में उठाकर वहां से लड़ने के लिए दौड़ पड़े हों।”

समाज में आलोचना की स्वतंत्रता के नाम पर वर्चस्वशाली बुर्जुवा वर्ग की स्वतंत्रता काबिज़ थी। मार्क्सवादी पार्टियां सिद्धांत पर काम नहीं कर रही थीं। वे नितांत व्यवहारवादी हो रही थीं। आलोचना की स्वतंत्रता के माहौल में बुरुजुवा अवसरवाद संगठनों में पैठ बना चुका था कारण है- सिद्धान्त से समझौता। लेनिन ने सिद्धांत पर बल दिया और उसका मिलान व्यवहार से लगातार बनाये रखा। उन्होंने कहा- “जिस आलोचना का इतना शोर है उसका मतलब एक सिद्धांत की जगह पर दूसरे सिद्धांत की स्थापना नहीं बल्कि पूरे समेकित तथा सुविचारित सिद्धांत से छुटकारा पाना होता है, उसका मतलब होता है कहीं की ईंट और कहीं का रोड़ा जमा करके कुनबा जोड़ना! उसका मतलब होता है सिद्धांतहीनता।”

“हरावल दस्ते की भूमिका केवल वही पार्टी अदा कर सकती है जो सबसे उन्नत सिद्धांत से निर्देशित होती हो।” लेकिन जनता के बीच काम करने के कारण लेनिन का व्यापक सिद्धांत कभी भी यांत्रिक नहीं हुआ। हम साफ़ देख रहे हैं कि किस तरह समय-समय पर सिद्धांत से समझौते हुए। जनता के बीच न होने के कारण यांत्रिक सिद्धांत रटाए गए या संसदीय राजनीति की ख़ातिर प्रतिभाशाली युवाओं को अर्थवादी बनाया गया और वे क्रमशः सिद्धांत से दूर हो गए। लेनिन ने अवसरवाद पर बराबर चोट की है- “जो बदमाश हैं या मूर्ख हैं, वे ही यह सोच सकते हैं कि सर्वहारा वर्ग को पहले पूँजीपति वर्ग के जुए के नीचे, उजरती ग़ुलामी के जुए के नीचे होनेवाले चुनावों में बहुमत प्राप्त करना है और तभी उसे सत्ता हाथ में लेनी है। यह हद दर्जे की बेवकूफी या पाखण्ड है, यह वर्ग-संघर्ष तथा क्रान्ति का स्थान पुरानी व्यवस्था के अन्तर्गत तथा पुरानी सत्ता के रहते हुए चुनावों को देना है।”

मार्क्सवादी दर्शन भौतिकवादी दर्शन है। न वह यांत्रिक सिद्धांत में जीवित रह सकता है न भावववादी व्यवहार के तात्कालिक धरातल पर कुछ ख़ास बदल सकता है। वह सिद्धान्त और व्यवहार के क्रम का गतिशील वैज्ञानिक सिद्धांत है जिसका नायाब उदाहरण लेनिन का काम है। हमारा समय ‘क्या करें?’ के सवालों से बिंधा हुआ है। चीख़ रहा है। आइए हम लेनिन को पढ़ें और संगठित हों।कॉमरेड लेनिन को लाल सलाम।

(डॉ. वंदना चौबे देश की प्रखर और बेहद सक्रिय मार्क्सवादी चिंतक हैं। पेश से वह साहित्य की प्रोफेसर हैं। वह शुरू से मार्क्सवादी गतिविधियों एवं लेखन में सक्रिय रही हैं। उन्होंने यह लेख लेनिन स्मृति के मौके पर आज के कार्यभारों पर लिखा है।)

बदहाली में जी रहे हैं दुनिया को बनारसी साड़ियां देने वाले बुनकर

0

गोष्ठी में मंहगी होती शिक्षा और मज़दूरों की बदहाल जिंदगी के बीच के संबंध को पहचाने की जरूरत पर जोर

कामता प्रसाद
देश-दुनिया को मशहूर बनारसी साड़ियां देने वाले बनारस की मेहनतकश आबादी खासकर बुनकरों की अपनी जिंदगी बदहाली में गुजर रही है। की करुण दास्तान पेश की। बाजार पर पूँजीपतियों और दलालों का कब्जा होने के कारण बुनकरी के काम में लगे लोगों की वास्तविक मज़दूरी 400 रुपए भी नहीं है, जितनी कि निर्माण क्षेत्र में काम करने वाले मज़दूरों की है। बनारस के मेहनतकश बुनकरों को संगठित-जागृत और गोलबंद करने के क्रम में फातिमा-सावित्री जनसमिति की ओर से स्वयंवर वाटिका में आयोजित कार्यक्रम में स्वयं बुनकरों ने उपस्थित होकर अपनी बदहाल जिंदगी की करुण दास्तान पेश की। पॉवर लूम पर अपने परिवार के साथ काम करने वाले मोहम्मद अहमद अंसारी ने बताया कि बाजार पर पूँजी और दलालों का कब्जा होने के कारण बुनकरी के काम में लगे लोग रोजाना जीवन-यापन करने भर का भी नहीं कमा पाते हैं।

इसी क्रम में मुस्लिम आबादी के सामाजिक पिछ़ड़ेपन, स्त्रियों की तुलनात्मक रूप से अधिक खराब दशा की पृष्ठभूमि में शिक्षा का प्रश्न भी उठा। श्री अंसारी ने कहा कि जब मज़दूरी-आमदनी ही इतनी कम है तो पहले भरण-पोषण की चिंता करें या कि पढ़ाई-लिखाई की। बेहद खराब माली हालत के चलते बुनकरों के बच्चे मदरसों में जाकर पढ़ने के लिए मज़बूर हैं।उत्पादक शक्तियों के पैरों में पड़ी बेड़ियों को तोड़कर इतिहास को अग्रगति देने वाली शक्ति यानि कि मज़दूर वर्ग के ऐतिहासिक मिशन के साथ खड़े तमाम बुद्धिजीवियों ने भी अपने तीक्ष्ण प्रेक्षण से उपस्थित-जन को अवगत कराया। भगत सिंह छात्र मोर्चा के विनय ने कहा कि अत्यल्प मज़दूरी के साथ ही शिक्षा का प्रश्न भी शासक वर्ग के शोषक-उत्पीड़क राजकीय ढाँचे से जुड़ा हुआ है। आज शासक वर्ग शिक्षा को भी बाजार में खरीदा-बेचा जाने वाला माल बनाए हुए है। अगर हमें इस स्थिति में सार्थक हस्तक्षेप करना है तो हमें राज्य के चरित्र को प्रमुखता से उठाना है।

जनवादी विमर्श मंच के संयोजक हरिहर प्रसाद ने कहा कि नई शिक्षा नीति संयुक्त राष्ट संघ के सतत विकास एजेंडे को अमल में लागू करने के लिए लागू की जा रही है। इसके तहत देसी-विदेशी पूँजीपतियों के लिए सस्ते व कुशल श्रमिक तैयार करने पर जोर दिया जा रहा है। इसके चलते उच्च शिक्षा महंगी हो जाएगी। सभी के लिए समान व निःशुल्क शिक्षा की पुरजोर हिमायत करते हुए उन्होंने कहा कि अगर इसका विरोध नहीं किया गया तो गरीबों-वंचित तबके के बच्चे उच्च शिक्षा से वंचित हो जाएंगे और केवल अमीरों के बच्चे ही ऊंची शिक्षा हासिल कर पाएंगे।

कार्यक्रम का संचालन करते हुए कवि-आलोचक डॉ वंदना चौबे ने कहा कि साम्राज्यवादी महाप्रभुओं ने अकूत पूँजी खर्च करके अर्थव्यवस्था को पूरी तरह से खोल देने के पक्ष में माहौल बनाया। सांस्थानिक बुद्धिजीवियों को खंडीकरण की वैचारिकी का कायल बनाने और उसे प्रचारित करने के लिए अनेकशः रूपों में लाभान्वित किया। मालिक-मज़दूर के मूल प्रश्न पर साजिशन पर्दा डालने हेतु मूल प्रश्न को परिधि के प्रश्नों से विस्थापित करने के लिए अस्मिता-विमर्श खड़ा किया गया। स्त्री और शिक्षा का प्रश्न भी अर्थव्यवस्था में ठहराव-मंदी और बेरोजगारी की समस्या से सीधे तौर पर जुड़ा हुआ है। शिक्षा के बाजारीकरण की समस्या को अगर हम हल करना चाहते हैं तो उसे हमें बेरोजगारी के सवाल से जोड़ना ही होगा।

फ़ातिमा शेख के जमाने का जिक्र करते हुए डॉ. वंदना ने कहा कि अंग्रेजों के समय में भारत का जो औपनिवेशिक ढांचा था उसे वे अपने दम पर अकेले नहीं चला रहे थे। यहाँ की जो ब्राह्मणवादी ताकतें थीं, संपन्न लोगों की जो ताकतें थीं, जिनके पास संपत्ति थी, प्रभुत्व था, जाति की ताकत थी, उन सारी ताकतों के साथ उन्होंने गँठजोड़ किया। इतना आसान नहीं था उनके लिए भारत की जनता के साथ लोहा लेना। तो उन्होंने बड़े लोगों से गँठजोड़ करके अपना शासन यहाँ पर फैलाया और यहाँ की शिक्षा पर सबसे पहले प्रहार किया।

डॉ. वंदना ने कहा कि आजादी मिलने के बाद भी शिक्षा व्यवस्था में बहुत हद तक निरंतरता बनी रही। वर्तमान दौर को साम्राज्यवाद का दूसरा दौर बताते हुए उन्होंने कहा कि सरकारी संस्थानों को लेकर आजादी के बाद जनता में विश्वास था। सरकारी चीजों पर भरोसा था। लेकिन धीरे-धीरे 90 के दौर में यह भरोसा छीजने लगा। प्राइवेट के पक्ष में पूंजी की मदद से माहौल बनाया गया। हर सरकारी चीज पर अविश्वास प्रकट किया जाने लगा और इस तरह से नैरेटिव बनाया गया कि जनोपयोगी सेवाओं के सभी क्षेत्रों को निजी क्षेत्र के लिए खोल दीजिए। प्रचार और विज्ञापन का पूरा दौर आया और बताया गया कि पूँजीपतियों और कंपनियों के लिए सब कुछ खोल देने का नाम ही आजादी है।

डॉ. वंदना ने कहा कि जब शिक्षा-स्वास्थ्य की जिम्मेदारी सरकार के पास होती है तो उनकी खराब गुणवत्ता के खिलाफ आवाज उठाने का हमारा हक़ होता है क्योंकि हम वोट देकर सरकार बनाते हैं। लेकिन जब उन्हें निजी क्षेत्र के हवाले कर दिया जाता है तो हम बोल ही नहीं पाते हैं क्योंकि निजी क्षेत्र तो अपने मुनाफे के लिए ही सभी गतिविधियों को संचालित करता है। बुनकर-मुस्लिम बस्तियों से जुड़े अपने अनुभवों को साझा करते हुए उन्होंने कहा कि सांप्रदायिकता का सवाल और उस पर बहस खाते-पीते मुस्लिमों के बीच की है। मज़दूर तो बस इस चिंता को व्यक्त-साझा करते हैं कि जिंदगी की गाड़ी को कैसे खींचें, कैसे अपने व अपने परिवार के लिए दो जून की रोटी का जुगाड़ करें।

उन्होंने कहा कि दरअसल यह लोकतंत्र पूंजीपतियों का लोकतंत्र है। बाज़ार के सारे रास्ते खोलकर सारी टैरिफ और ड्यूटीज हटाकर सरकार पूंजीपतियों के लिए सारे दरवाज़े खोल चुकी है। यह नंगी प्रतियोगिता है। सरकार इसे ही लोकतंत्र कहती है। हमें लोकतंत्र की इस बुनियाद को समझना होगा। ज़ाहिर है कि हम लोकतंत्र के लिए ही लड़ेंगे लेकिन सरकार और पूंजीपतियों द्वारा थोपे गए लोकतंत्र को हम लोकतंत्र नहीं मानेंगे।

दिशा छात्र संगठन के अमित ने कहा कि देशा की शिक्षा व्यवस्था भारी परिवर्तन के दौर से गुज़र रही है लेकिन इस परिवर्तन में भी निरंतरता का पहलू बना हुआ है। उन्होंने कहा कि अतीत की शोषणकारी व्यवस्था वर्तमान शिक्षा व्यवस्था में भी अपनी निरंतरता लिए हुए है। मज़दूरों का खून पीने वाली, उनकी रक्त-मज्जा से मुनाफा निचोड़ने वाली इस पूँजीवादी व्यवस्था का बिना नाश किए जनपरक-विज्ञानकरक शिक्षा की व्यवस्था नहीं की जा सकती है। उन्होंने कहा कि शासन के जनद्रोही होने का सवाल आज भी उतना ही अहम बना हुआ है जितना कि अंग्रेजों के समय में था।

मजदूर आंदोलन से जुड़े सामाजिक कार्यकर्ता पवन कुमार ने कहा कि इस पूंजीवादी बाजारवाद में शिक्षा जीवन की अन्य जरूरतों जैसे स्वास्थ्य, परिवार के परिवेश से, मकान, भोजन, कपडा आदि से अलग-थलग नहीं है बल्कि सब एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। शिक्षा केवल स्कूल और कालेजों में मिलने वाली औपचारिक शिक्षा ही नहीं है, बल्कि इस औपचारिक शिक्षा के साथ अनौपचारिक शिक्षा जन्म के साथ ही माँ- बाप से, परिवार के परिवेश से, आस पास के परिवेश से और परिवार के आर्थिक सामाजिक हालातों से मिलने लगती है और आज कल के वॉट्सऐप, फेसबुक, ट्विटर, इन्स्ताग्राम और अन्य सोशल मीडिया के माध्यम से यह अनौपचारिक शिक्षा लगातार दी जा रही है।

औपचारिक शिक्षा में जहाँ उच्च शिक्षा केवल धनवानों और श्रम खरीदने वाले पूँजीवानों तक ही सीमित की जा रही है और अपना श्रम बेचकर जीविकोपार्जन करने वालों की पहुँच से दूर होती जा रही है, वहीँ प्राथमिक और माध्यमिक स्तर तक की औपचारिक शिक्षा केवल श्रम के खरीददारों पूँजीवानों धनवानों के कारखानों, घरों और संस्थानों में श्रम बेचने वाले नौकर पैदा करने तक सीमित है और उसी उद्देश्य से दी जा रही है। उन्होंने कहा कि इसी व्यवस्था में जन साधारण अर्थात श्रम बेचकर जीवन निर्वाह करने वालों के भी अच्छे दिन आ जायेंगे, इससे बड़ा झूठ और भ्रम दूसरा नहीं है।

उन्होंने आज की पूंजीवादी राजसता, अस्मिता-विमर्श (पिछड़ावाद, जातिवाद, नारीवाद, क्षेत्रवाद आदि) को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि शासक वर्ग चाहता है कि जन सामान्य के अर्थात मेहनतकशों के मुद्दों को गायब कर दिया जाए। तभी तो वह पूँजी बनाम श्रम के मूल मुद्दे से ध्यान भटकाने के लिए अरबों डालर एनजीओ-जगत को देकर फर्जी मुद्दों को केंद्र में लाने का प्रयास करता रह है। उन्होंने कहा कि शिक्षा के लिए अन्य समस्यायों के साथ समेकित रूप से लड़ने की आवश्यकता है।

सामाजिक कार्यकर्ता एडवोकेट शहजादे ने कहा कि सामाजिक चेतना के बगैर ज्ञान की प्रक्रिया चल ही नहीं सकती किसी भी ब्रेन को परिपक्व होने में 18 साल लगते हैं इसी दौरान धार्मिक पूर्वाग्रहों जातिवादी भेदभाव पर आधारित शिक्षा मनुष्य के व्यक्तित्व को बिगाड़ देती है। जबकि सामाजिक चेतना से लैस शिक्षा जो उत्पादन की पद्धति के अनुरूप होती है, वह ऐसे मनुष्य का निर्माण करती है जो सामूहिकता-सहकार की भावना से ओतप्रोत होता है। पूंजीपति अपने उद्देश्य को पूरा करने हेतु सामाजिक चेतना को नियंत्रित करने के लिए लंबे समय से चली आ रही सामाजिक व्यवस्था में निरंतरता बनाए रखने का प्रयास करता है।

ऑल इंडिया सेकुलर फोरम के डॉ. मोहम्मद आरिफ ने उच्च शिक्षा प्राप्त युवाओं के बीच पसरी भयंकर बेरोजगारी और अकिंचनता का चित्र उपस्थित करते हुए बताया कि बुनकरों की समस्या पर तो आए दिन अखबारों में बयान छपते रहते हैं, बिजली के फ्लैट रेट से जुड़ी मांग से हम भलीभाँति परिचित हैं लेकिन निजी स्कूलों-कॉलेजों में उच्च शिक्षा प्राप्त नौजवान पाँच हजार महीने की नौकरी करने को अभिशप्त है। हाड़तोड़ शारीरिक श्रम के बरअक्स मानसिक श्रम करने वालों पर पहनावे-ओढ़ावे और व्यक्तित्व की समग्र प्रस्तुति को लेकर अतिरिक्त सामाजिक दबाव के हवाले से उन्होंने कहा कि तथाकथित उच्च-शिक्षा प्राप्त लोग भी संकटग्रस्त-ठहरावग्रस्त अर्थव्यवस्था की मार से उतने ही परेशान हैं जितना कि आम मज़दूर वर्ग।

कार्यक्रम को ऐपवा की कुसुम वर्मा, बिहार निर्माण व असंगठित मजदूर यूनियन के इंद्रजीत, स्वराज इंडिया के मोहम्मद अहमद अंसारी, उत्तर प्रदेश निर्माण व असंगठित मज़दूर यूनियन के इंद्रजीत, सामाजिक कार्यकर्ता प्रतिमा आदि ने भी संबोधित किया।

जानें बहर क्या है और ग़ज़ल लेखन के लिए क्यों है ज़रूरी?

0

ग़ज़ल लेखन के लिए बहर का ज्ञान ज़रूरी क्‍यों?

अगर आप शायर बनने की ख़्वाहिश रखते हैं तो आपके लिए बहर को जानना ज़रूरी है। ग़ज़ल की महत्‍ता का अनुमान इसी बात से लगाया जा सकता है कि साहित्‍य या संगीत में रूचि लेने वाला कोई व्‍यक्ति नहीं होगा जो, ग़ज़ल से परिचित न हो। कवि-सम्‍मेलन से लेकर मुशायरा तक, मंचीय गायन से लेकर फिल्‍मी गाने तक, उप-शासत्रीय गायन से शास्‍त्रीय संगीत तक, कब्‍बाली से लेकर हिंदुस्‍तानी संगीत तक ग़ज़ल हर जगह व्‍याप्‍त हैं। जिस प्रकार बाथरूम सिंगर होते हैं, उसी प्रकार टाइम-पास यानी शौक़िया कवि या शायर भी होते हैं। ये लोग कुछ पंक्ति लिखने का प्रयास करते हैं। ग़ज़ल, शेर, शायरी के प्रारूप में ही कुछ पंक्ति लिखने की कोशिश करते हैं। आज कल सोशल मीडिया के ज़माने में, ऐसे नौसिखिया कवियों एवं शायरों की बाढ़-सी आ गई है। यह स्थिति सुखद भी है, क्‍योंकि इन्‍ही नौसिखियों में से कुछ अच्‍छे कवि या शायर के रूप में भी उभर कर सामने आ रहे हैं। यह इसलिए भी सुखद स्थिति है कि अब कलमकार सोशल मीडिया की मदद से काव्‍य शिल्‍पों, काव्‍य-व्‍याकरण से परिचित होने का प्रयास कर रहे हैं।

यह खे़द की बात है कि ऐसे बहुत सारे शायर हैं जो अपने आप को ग़ज़लकार कहते हैं। ग़ज़लों की किताब भी छपवा लिए हैं, किंतु उन्‍हें ग़ज़ल शिल्‍प का ज्ञान नहीं है। अगर है तो आंशिक ज्ञान है। ज़्यादातर कवि या ग़ज़लकार ग़ज़ल के तीन मूलभूत शब्‍द रदीफ़, क़ाफ़िया और बहर में से रदीफ़ और क़ाफ़िया का पालन करते हुए तो दिखते हैं, किंतु बहर का पालन नहीं कर पाते। जबकि यह सर्वविदित है कि बिना बहर में लिखी गई बे-बहर ग़ज़ल ग़ज़ल होती ही नहीं है। इन्‍हें भाव प्रधान कविता कह सकते हैं, किंतु शिल्‍प विधान के अनुसार ग़ज़ल कदापि नहीं कह सकते। ऐसे कवियों और शायरों को ग़ज़ल शिल्‍प-विधान का अध्‍ययन, मनन और चिंतन करना चाहिए। फिर उनके ग़ज़ल लेखन विधा में निखार आ जाएगा। वे शायर या शायरा कहलाने का दर्ज़ा हासिल कर लेंगे। बेशक ऐसे कवियों में कई का भाव पक्ष बहुत प्रबल होता है। शब्‍द चयन और वाक्य विन्यास बेजोड़ होता है किंतु कमी ग़ज़ल शिल्‍प का न होना, उनके लेखन पर सवाल पैदा करता है, इसलिए ग़ज़ल लेखन के इच्छुक लोगों का बहर जानना अपरिहार्य है।

ग़ज़ल से परिचय
ग़ज़ल वस्तुतः अरबी साहित्‍य की प्रसिद्ध काव्‍य विधा है, जो फ़ारसी, उर्दू से होते हुए हिंदी यहां तक कि क्षेत्रीय बोली-भाषाओं में भी प्रवेश कर गया है। भारतीय संदर्भ में कह सकते हैं – ‘ग़ज़ल, गंगा-जमुनी तहज़ीब का संगम है।’ ग़ज़ल विभिन्‍न भाषाओं के साहित्‍यों का संगम स्‍थल है। हिंदी के अनेक रचनाकारों ने इस विधा को अपनाया। जिनमें सूर्यकांत त्रिपाठी निराला, शमशेर, बलबीर सिंह रंग, भवानी शंकर, जानकी वल्लभ शास्त्री, सर्वेश्वर दयाल सक्सेना, त्रिलोचन आदि प्रमुख हैं। हालांकि इस विधा में सर्वाधिक प्रसिद्धि दुष्यंत कुमार को मिली।

ग़ज़ल क्‍या है?
ग़ज़ल एक ही बहर और वज़न के अनुसार लिखे गए शेरों का एक समूह है। ग़ज़ल कि इस परिभाषा में भी बहर को ही महत्‍व दिया गया है, क्योंकि ऐसा कहा जाता है कि बहर ग़ज़ल का प्राण है, इसलिए ग़ज़ल लिखने के लिए बहर को जानना बहुत ज़रूरी है। आमतौर पर ग़ज़लों में शेरों की विषम संख्या होती है (जैसे तीन, पाँच, सात…)। एक ग़ज़ल में जिसमें न्यूनतम चार ग़ज़लों से लेकर दस या उससे भी अधिक 25 शेर तक हो सकते हैं। एक ख़बर के अनुसार डॉ. अशोक पांडेय ‘गुलशन’ ने 43 शेर यानी 86 पंक्तियों की दुनिया की सबसे बड़ी ग़ज़ल लिखकर एशिया बुक ऑफ रिकार्ड में अपना नाम दर्ज कराया है। इन शेरों के भाव और अर्थ की दृष्टिकोण से एक दूसरे से जुड़े हुए अथवा स्वतंत्र भी हो सकते हैं।

ग़ज़ल के कुछ परिभाषिक शब्‍द

ग़ज़ल
ग़ज़ल शेरों का ऐसा समूह है जिसके प्रत्‍येक शेर समान रदीफ़ (समांत), समान क़ाफ़िया (तुकांत) और समान वज़न (मात्राक्रम) मतलब बहर (स्‍केल) में होते हैं। गैरमुरद्दफ ग़ज़ल में रदीफ़ नहीं होता किंतु बहर होना अनिवार्य माना जाता है।

शाइरी या शायरी
ग़ज़ल लिखने के लिए अपने विचारों को ग़ज़ल के पैमाने में पिराने अर्थात लिखने की प्रक्रिया को शाइरी या शायरी कहते हैं। ज़ाहिर है जो अपनी ग़ज़ल के प्रत्‍येक शेर को रदीफ़, क़ाफ़िया और वज़न यानी बहर (स्‍केल) में लिखता है, उसे शाइर या शायर या शायरा कहते हैं।

शेअर या शेर
समान रदीफ़ (समांत), समान क़ाफ़िया (तुकांत) और समान वज़न (मात्राक्रम) मतलब बहर (स्‍केल) में लिखे दो पंक्ति को शेअर कहते हैं।

ग़ज़ल का उदाहरण दुष्यंत कुमार की एक रचना से

हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए।
इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए।।

आज यह दीवार, परदों की तरह हिलने लगी।
शर्त थी लेकिन कि ये बुनियाद हिलनी चाहिए।।

हर सड़क पर, हर गली में, हर नगर, हर गाँव में।
हाथ लहराते हुए हर लाश चलनी चाहिए।।

सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं।
मेरी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए।।

मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही।
हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए।।
-दुष्‍यंत कुमार

मिसरा
शेअर जो दो पंक्तियों का होता है, उसके प्रत्‍येक पंक्ति को मिसरा कहते हैं। शेअर की पहली पंक्ति को मिसरा-ए-उला कहते हैं और शेअर की दूसरी पंक्ति को मिसरा-ए-सानी कहते हैं।

मिसरा, मिसरा-ए-उला, मिसरा-ए-सानी के उदाहरण

हो गई है पीर पर्वत सी पिघलनी चाहिए  (पहली पंक्ति – मिसरा-ए-उला)
इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए (दूसरी पंक्ति – मिसरा-ए-सानी)

मेरे  सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही  (पहली पंक्ति-मिसरा-उला)
हो कहीं भी आग लेकिन आग जलनी चाहिए (दूसरी पंक्ति-मिसरा-ए-सानी)

उपरोक्‍‍‍त  चारों पंक्ति अलग-अलग मिसरे हैं।

मतला
ग़ज़ल के पहले शेर जिसके दोनों मिसरे में रदीफ़ और क़ाफ़िया हो उसे मतला कहते हैं।

मतला का उदाहरण
हो गई है पीर पर्वत सी पिघलनी चाहिए। (रदीफ़ – चाहिए, क़ाफ़िया – अलनी)
इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए।।  (रदीफ़ – चाहिए, क़ाफ़िया – अलनी)

मक़ता
ग़ज़ल के आखरी शेर को मक़ता या मक़्ता कहते हैं, इस शेर में प्राय: शायर का नाम आता है।

मक़ता का उदाहरण
मैंने माना कि कुछ नहीं ‘ग़ालिब’।
मुफ़्त हाथ आए तो बुरा क्या है।।

ग़ज़ल के प्रकार
ग़ज़ल दो प्रकार के होते हैं।
मुरद्दफ ग़ज़ल-जिसके शे़रों में रदीफ़ होता है।
ग़ैर-मुरद्दफ ग़ज़ल-जिसके शे़रों में रदीफ़ नहीं होता है।

रदीफ़
रदीफ़ एक समांत शब्‍द (अंत में आने वाला समान शब्‍द) होता है जो मतला (ग़ज़ल के पहले शेर की दोनों पंक्ति) और सभी शेर के मिसरा-ए-सानी मतलब शेर की दूसरी पंक्ति में आता है।

रदीफ़ का उदाहरण
हो गई है पीर पर्वत सी पिघलनी चाहिए
इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए

मेरे  सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही
हो कहीं भी आग लेकिन आग जलनी चाहिए

क़ाफ़िया
रदीफ़ के ठीक पहले आने वाले समतुकांत शब्‍द को क़ाफ़िया कहते हैं।

क़ाफ़िया का उदाहरण
हो गई है पीर पर्वत सी पिघलनी चाहिए
इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए

मेरे  सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही
हो कहीं भी आग लेकिन आग जलनी चाहिए

वज़न या वज्‍़न

किसी शब्‍द के मात्रा भार या मात्रा क्रम को वज़न या वज्‍़न कहते हैं।

वज़न का नाम मात्रा भार उदाहरण शब्‍द
फअल 12 असर, समर, नज़र ऩबी, यहाँ आदि
फैलुन 22 राजन, राजा, बाजा, इसको आदि
फाअ 21 राम, राज, आदि

 

वज़न तय करना
शब्‍दों को बोलने यानी उसके उच्चारण में जो समय लगता है, उसके आधार पर शब्‍दों का वज़न को तय किया जाता है। इसके लिए प्रत्‍येक अक्षर का दो भार दिया गया है- एक को लाम और दूसरे को गाफ कहा जाता है।

लाम
जिन अक्षरों के उच्‍चारण में कम समय लगता है, उन्हें लाम कहते हैं। यह हिंदी छंदों में लघु मात्रा कहलाता है और इस तरह इसका वर्ण भार यानी वज़न 1 होता है।

हिंदी वर्ण माला के अ, इ, उ स्‍वर और इनसे बने व्‍यंजन एकमात्रिक यानी लाम कहलाते हैं।
जैसे- अ -1, इ-1, उ-1, क-1, कि-1, कु-1 इसी प्रकार आगे
चँद्र बिंदु युक्‍त व्‍यंजन भी लाम होते हैं जैसे कँ-1, खँ-1 आदि

गाफ़
जिन वर्णों के उच्‍चारण में लाम से ज़्यादा समय लगता उसे गाफ़ कहते हैं। यह हिंदी छंदों में दीर्घ मात्रा कहलाता है और इस तरह इसका वर्ण भार यानी वज़न 2 होता है।

हिंदी वर्णमाला के आ, ई, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ, अं स्‍वर और स्‍वरों से बनने वाले व्‍यंजन गाफ़ कहलाते हैं।
जैसे – आ-2, ई-2, ऊ-2, ए-2 आदि
का-2, की-2 कू-2 के-2  आदि

इसके अतिरिक्‍त जिन दो लाम या लघु वर्णो का उच्‍चारण एक साथ होता है उसे शाश्‍वत गुरु या गाफ कहते हैं। यही उर्दू साहित्‍य में हिंदी साहित्‍य की मात्रा गणना में भिन्‍नता है।

जैसे – घर, जल,  शब्‍द हिंदी 1,1 है जबकि उर्दू साहित्‍य में यह 2 है क्‍योंकि इसका उच्‍चारण एक साथ हो रहा है।
‘अजर’ शब्‍द हिंदी में 111 है जबकी उर्दू साहित्‍य में अजर- अ-1 और जर-2 है।

रूकन

जिस प्रकार हिंदी छंद शास्‍त्र में ‘यमाताराजभानसलगा’ गण लघु गुरु का क्रम होता है उसी प्रकार उर्दू साहित्‍य में लाम और गाफ़ के समूह रूकन और बहुवचन में इसे अरकान कहते हैं।

रूकन के भेद
सालिम रूकन
मुजाहिफ रूकन

सालिम रूकन 
उर्दू साहित्‍य में मूल रूकन को सालिम रूकन कहते हैं इनकी संख्‍या 7 होती है ।  ये इस प्रकार है-

क्रमांक रूकन का प्रकार रूकन का नाम मात्रा वज़न उदाहरण शब्‍द/वाक्‍यांश
1. फईलुन मुतकारिब 122 हमारा
2. फाइलुन मुतदारिक 212 रामजी
3. मुफाईलुन हज़ज 1222 चलो यारा
4. फाइलातुन रम़ल 2122 रामसीता
5. मुस्‍तफ्यलुन रज़ज 2212 आओ सभी
6. मुतफाइलुन कामिल 11212 घर में नहीं
7. मुफाइलतुन वाफिर 12112 कबीर कहे

 

मुजाहिफ रूकन
सालिम रूकन या मूल रूकन  की मात्रा को कम करने से रूकन बनता है।

उदाहरण
सालिम रूकन – मुफाईलुन- 1222 के तीसरी मात्रा 2 को घटा कर 1 करने पर मुफाइलुन 1212 बनता है।
इसी प्रकार- मुस्‍तफ्यलुन- 2212 रूकन से मफाइलुन 1212, फाइलुन 212, मफऊलुन 222 बनाया जाता है।

अरकान
रूकन के समूह को अरकान कहते हैं, इससे ही बहर का निर्माण होता है।
जैसे- फाइलातुन मूल रूकन की पुनरावृत्ति करने पर
फाइलातुन / फाइलातुन / फाइलातुन / फाइलातुन /

बहर

ग़ज़ल जिस लय पर, जिस मात्रा पर, जिस मीटर पर लिखि जाती है, या जिस अरकान पर लिखी जाती है, उसे ही बहर कहते हैं।

वास्‍तव में बहर रूकनों से बनते हैं। रूकनों की पुनरावृत्ति से ही बहर का निर्माण होता है। जिस प्रकार हिंदी छंद शास्‍त्र में सवैया गणों की पुनरावृत्ति से बनते हैं उसी प्रकार ग़ज़ल का बहर रूकनों के पुनरावृत्ति से बनते हैं। इसलिए ग़ज़ल लेखन के लिए बहर को जानना ज़रूरी होता है।

जैसे- बहर-ए-रमल में रमल मजलब फाइलातुन की चार बार आवृती होती है-
फाइलातुन / फाइलातुन / फाइलातुन / फाइलातुन /

बहर का उदाहरण
फाइलातुन / फाइलातुन / फाइलातुन
2122    /  2122    /  2122

यह बहर फाइलातुन रूकन जिसका नाम रमल है, की तीन बार पुनरावृत्ति से बनाई गई है। इसी प्रकार किसी भी रूकन की पुनरावृत्ति से बहर बनाया जा सकता है।

बहर का नामकरण

बहर का नाम = रूकन का नाम + रूकन के पुनरावृत्ति का नाम + सालिम या मज़हूफ़

बहर का निर्माण रूकनों से होता है इसलिए जिस रूकन की पुनरावृत्ति हो रही है, उस मूल रूकन का नाम पहले लिखते हैं, फिर उस रूकन की जितनी बार पुनरावृत्ति हो रही है, उस आधार पर निश्चित पुनरावृत्ति के एक नाम निर्धारित है जिसे नीचे टेबल पर दिया गया, उसका नाम लिखते हैं अंत में रूकन मूल हो तो सालिम और यदि रूकन मूल न हो होकर मूज़ाहिफ़ या उपरूकन हो तो मज़हूफ़ लिखते हैं।

रूकनों के पुनरावृत्ति का नाम

पुनरावृत्‍त की संख्‍या पुनरावृत्‍त का नाम
2 बार मुरब्‍बा
3 बार मुसद्दस
4 बार मुसम्‍मन

 

बहर नामकरण का उदाहरण

  • 2122 / 2122 / 2122 – फाइलातुन / फाइलातुन / फाइलातुन
  • बहर का नाम = रूकन का नाम + रूकन के पुनरावृत्ति का नाम + सालिम या मज़हूफ़
  • यहाँ रूकन का नाम रमल है, इसकी तीन बार पुनरावृत्ति हुई इसलिए मुसद्दस होगा और मूल रूकन है, इसलिए सालिम, इस प्रकार इस बहर का नाम ‘रमल मुसद्दस सालिम’ होगा।
  • 2122 / 2122 / 212 – फाइलातुन / फाइलातुन / फाइलुन
  • बहर का नाम = रूकन का नाम + रूकन के पुनरावृत्ति का नाम + सालिम या मज़हूफ़
  • यहॉं मूल रूकन का नाम रमल है, इसकी तीन बार पुनरावृत्ति हुई इसलिए मुसद्दस होगा और किंतु तीसरे बार फाइलातुन 2122 के स्‍थान पर फाइलुन 212 आया है इसलिए मज़हूब होगा, इस प्रकार इस बहर का नाम ‘रमल मुसद्दस मज़हूब’ होगा। इस पर ध्‍यान केंद्रित करना होगा।

मूल रूकन 7 होते हैं, इनकी तीन प्रकार दो बार, तीन बार या चार बार पुनरावृत्‍त किया जा सकता है, इसलिए मूल रूकन से कुल 21 प्रकार के बहर बनेंगे-

बहर मूल रूकन का नाम रूकन की पुनरावत्ति रूकन का भेद बहर का नाम
122/ 122 मुतकारिब 2 बार, मुरब्‍बा सालिम मुतकारिब मुरब्‍बा सालिम
122/ 122/ 122 मुतकारिब 3 बार, मुसद्दस सालिम मुतकारिब मुसद्दस सालिम
122/122/122/122 मुतकारिब 4 बार, मुसम्‍मन सालिम मुतकारिब मुसम्‍मन सालिम
212/ 212 मुतदारिक 2 बार, मुरब्‍बा सालिम मुतदारिक मुरब्‍बा सालिम
212/ 212/212 मुतदारिक 3 बार, मुसद्दस सालिम मुतदारिक मुसद्दस सालिम
212/ 212/212/212 मुतदारिक 4 बार, मुसम्‍मन सालिम मुतदरिक मुसम्‍मन सालिम
1222/1222 हजज 2 बार, मुरब्‍बा सालिम हजज मुरब्‍बा सालिम
1222/1222/1222 हजज 3 बार, मुसद्दस सालिम हजज मुसद्दस सालिम
1222/1222/1222/1222 हजज 4 बार, मुसम्‍मन सालिम हजज मुसम्‍मन सालिम
2122/2122 रमल 2 बार, मुरब्‍बा सालिम रमल मुरब्‍बा सालिम
2122/122/2122 रमल 3 बार, मुसद्दस सालिम रमल मुसद्दस सालिम
2122/2122/2122/2122 रमल 4 बार, मुसम्‍मन सालिम रमल मुसम्‍मन सालिम
2212/2212 रजज 2 बार, मुरब्‍बा सालिम रजज मुरब्‍बा सालिम
2212/2212/2212 रजज 3 बार, मुसद्दस सालिम रजज मुसद्दस सालिम
2212/2212/2212/2212 रजज 4 बार, मुसम्‍मन सालिम रजज मुसम्‍मन सालिम
11212/11212 कामिल 2 बार, मुरब्‍बा सालिम कामिल मुरब्‍बा सालिम
11212/11212/11212 कामिल 3 बार, मुसद्दस सालिम कामिल मुसद्दस सालिम
11212/11212/11212/11212 कामिल 4 बार, मुसम्‍मन सालिम कामिल मुसम्‍मन सालिम
12112/12112 वाफिर 2 बार, मुरब्‍बा सालिम वाफिर मुरब्‍बा सालिम
12112/12112/12112 वाफिर 3 बार, मुसद्दस सालिम वाफिर मुसद्दस सालिम
12112/12112/12112/12112 वाफिर 4 बार, मुसम्‍मन सालिम वाफिर मुसम्‍मन सालिम

इसी प्रकार उपरूकनों से बहर बनाया जा सकता है।

मात्रा गिराने का नियम

ग़ज़ल लेखन में बहर में मात्रा कब गिराया जा सकता है, इसे समझना भी आवश्‍यक है। वास्तव में मात्रा गिराने का कोई नियम रिजु शास्‍त्र में नहीं कहा गया है किंतु ग़ज़लकार जब गाफ़ यानी कि दीर्घ मात्रा को बिना ज़ोर दिए लाम यानी लघु की तरह पढ़ते हैं तो इसे ही मात्रा गिराना कहते हैं। जब तक हम यह नहीं समझेगें कि मात्रा कब-कब गिराना चाहिए तब तक बहर में ग़ज़ल लिखना सरल नहीं होगा। आइए इन्हीं स्थितियों को देखते हैं कि मात्रा कब-कब गिरता है।

नियम

  1. आ, ई, ऊ, ए, ओ स्वर तथा इन स्वरों से बने दीर्घ अक्षर को गिराकर लघु बना सकते हैं। यहां ध्यान रखना होगा कि शाश्‍वत दीर्घ का मात्रा नहीं गिराया जा सकता न ही अर्ध व्यंजन के योग से बने दीर्घ को लघु किया जा सकता।
  2. आ, ई, ऊ, ए, ओ स्वर तथा इन स्वरों से बने दीर्घ अक्षर को गिरा कर लघु केवल और केवल तभी कर सकते हैं जब ये दीर्घ शब्द के अंत में हो, शब्द के शुरू या मध्य में आने वाले दीर्घ को लघु नहीं किया जा सकता।
  3. संज्ञा शब्‍द किसी व्‍यक्त, स्‍थान या वस्‍तु के नाम में मात्रा नहीं गिराया जा सकता।

मात्रा गिराने का उदाहरण

  • ‘राखिये’ शब्‍द में ‘ये’ की मात्रा गिराई जा सकती है। किंतु शाश्‍वत दीर्घ शब्‍द जैसे ‘सम’ की मात्रा नहीं गिराई जा सकती। अर्धवर्ण के योग से बने दीर्घ जैसे ‘लक्ष्य’ ‘ल+क्ष्’ दीर्घ है इसमें मात्रा नहीं गिराई जा सकती।
  • ‘काया’ शब्द में केवल ‘या’ का मात्रा गिराया जा सकता है ‘का’ का नहीं क्योंकि ‘का’ शब्द के प्रारंभ में है और ‘या’ अंत में।
  • ‘रखेगा’ शब्द में ‘गा’ का मात्रा गिराया जा सकता है ‘खे’ का नहीं क्योंकि ‘खे’ शब्द के मध्य में आया है।

एक बात ध्यान में रखें केवल और केवल शब्द के आख़िर में आए दीर्घ को गिराकर लघु किया जा सकता है प्रारंभ और मध्य के दीर्घ का नहीं ।

मात्रा गिराने के नियम के अपवाद

  1. समान्यतः ऐ स्वर और इनके व्यंजन के मात्रा नहीं गिराए जाते किंतु ‘है’ और ‘मैं’ में मात्रा गिराया जा सकता है।
  2. ‘मेरा’, ‘तेरा’ और ‘कोई’ ये तीन शब्द हैं जिसके प्रारंभ के दीर्घ को लघु किया जा सकता है। जैसे मेरा 22 में ‘मे’ को गिरा 12 किया जा सकता है ।

सारांश – जब किसी शब्द के अंत में ‘आ, ई, ऊ, ए, ओ स्वर तथा इन स्वरों से बने दीर्घ अक्षर’ आएं तो उसे गिरा कर लघु कर सकते हैं। अपवाद स्वरूप ‘मै’ और ‘है’ को लघु मात्रिक किया जा सकता है एवं ‘तेरा, मेरा और कोई’ शब्द के पहले दीर्घ को भी लघु किया जा सकता है।

सलाह-मात्रा गिराने से बचना चाहिए।

तक्तीअ करना

ग़ज़ल लेखन में शेर में बहर को परखने के लिए जिस तरह मात्रा की गणना की जाती है उसे तक्तीअ करना कहते हैं। यह वास्तव में किसी शब्द में लाम और गाफ़ का क्रम लिखना होता है जिससे निश्चित रूप से कोई न कोई रूकन फिर रूकन से बहर बनता है। ग़ज़ल के मिसरे में गाफ़ (दीर्घ) और लाम (लघु) को क्रमवार लिखते हुए बहर का निर्धारण करना तक्तिअ कहलाता है। तक्तिअ करते समय बहर को शुद्ध रूप में लिखते हैं गिरे मात्रा के स्थान पर दीर्घ नहीं लिखते। तक्तिअ करने की प्रक्रिया को समझना आवश्‍यक है।

तक्तिअ करने का उदाहरण पहला

कैसे मंज़र सामने आने लगे हैं
गाते गाते लोग चिल्लाने लगे हैं

अब तो इस तालाब का पानी बदल दो
ये कँवल के फूल कुम्हलाने लगे हैं

एक कब्रिस्तान में घर मिल रहा है
जिसमें तहखानों से तहखाने लगे हैं
-दुष्यंत कुमार

जहाँ पर मात्रा गिराई गई है, रंगीन और बोल्‍ड कर दिया गया है-

अब तो इस ता / लाब का पा / नी बदल दो
2122 / 2122 / 2122

ये कँवल के / फूल कुम्हला / ने लगे हैं
2122 / 2122 / 2122

एक कब्रिस् / तान में घर / मिल रहा है
2122 / 2122 / 2122

जिसमें तहखा / नों से तहखा / ने लगे हैं
2122 / 2122 / 2122

तक्तिअ करने का उदाहरण दूसरा

उसे अबके वफाओं से गुज़र जाने की जल्दी थी
मगर इस बार मुझको अपने घर जाने की जल्दी थी

मैं अपनी मुट्ठियों में कैद कर लेता जमीनों को
मगर मेरे क़बीले को बिखर जाने की जल्दी थी

वो शाखों से जुदा होते हुए पत्ते पे हँसते थे
बड़े जिन्दा नज़र थे जिनको मर जाने की जल्दी थी
-राहत इन्दौरी

जहॉं पर मात्रा गिराई गई है, रंगीन और बोल्‍ड कर दिया गया है-

उसे अबके / वफाओं से / गुज़र जाने / की जल्दी थी

1222 / 1222 / 1222 / 1222

मगर इस बा/ र मुझको अप/ ने घर जाने / की जल्दी थी

1222 / 1222 / 1222 / 1222

मैं अपनी मुट् / ठियों में कै / द कर लेता / जमीनों को

1222 / 1222 / 1222 / 1222

मगर मेरे / क़बीले को / बिखर जाने / की जल्दी थी

1222 / 1222 / 1222 / 1222

वो शाखों से / जुदा होते / हुए पत्ते / पे हँसते थे
1222 /        1222 /   1222 / 1222
बड़े जिन्दा / नज़र थे जिन / को मर जाने / की जल्दी थी
1222 /           1222 / 1222          / 1222

कुछ प्रचलित बहर के नाम, उनके अरक़ान और वज़न

ग़ज़ल लिखने के लिए उपयोग मे लाए जाने वाले कुछ प्रचलित बहर के नाम, उनके अरक़ान और वज़्न (लघु- 1, गुरु/ दीर्घ- 2) आशा है आप अवश्य लाभान्वित होंगे।

ग़ज़ल की 32 प्रचलित बहरें

1
11212 11212 11212 11212

2
2122 1212 22

3
221 2122 221 2122

4
1212 1122 1212 22

5
221 2121 1221 212

6
122 122 122

7
122 122 122 122

8
122 122 122 12

9
212 212 212

10
212 212 212 2

11
212 212 212 212

12
1212 212 122 1212 212 22

13
2212 2212

14
2212 1212

15
2212 2212 2212

16
2212 2212 2212 2212

17
2122 2122

18
2122 1122 22

19
2122 2122 212

20
2122 2122 2122

21
2122 2122 2122 212

22
2122 1122 1122 22

23
1121 2122 1121 2122

24
2122 2122 2122 2122

25
1222 1222 122

26
1222 1222 1222

27
221 1221 1221 122

28
221 1222 221 1222

29
212 1222 212 1222

30
212, 1212, 1212, 1212

31
1212, 1212, 1212, 1212

32
1222, 1222, 1222, 1222

विस्तृत विवरण

1
बहरे कामिल मुसम्मन सालिम
मुतफ़ाइलुन मुतफ़ाइलुन
मुतफ़ाइलुन मुतफ़ाइलुन
11212 11212 11212 11212

उदाहरण
ये चमन ही अपना वुजूद है इसे छोड़ने की भी सोच मत
नहीं तो बताएँगे कल को क्या यहाँ गुल न थे कि महक न थी

2
बहरे खफ़ीफ मुसद्दस मख़बून
फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ेलुन
2122 1212 22

उदाहरण
प्या ‘स’ को प्या ‘र’ करना था केवल
एक अक्षर बदल न पाये हम

3
बहरे मज़ारिअ मुसम्मन मक्फ़ूफ़ मक्फ़ूफ़
मुख़न्नक मक़्सूर
मफ़ऊलु फ़ाइलातुन मफ़ऊलु फ़ाइलातुन
221 2122 221 2122

उदाहरण
जब जामवन्त गरजा, हनुमत में जोश जागा
हमको जगाने वाला, लोरी सुना रहा है

4
बहरे मुजतस मुसमन मख़बून महज़ूफ
मुफ़ाइलुन फ़इलातुन मुफ़ाइलुन फ़ेलुन
1212 1122 1212 22

उदाहरण
भुला दिया है जो तूने तो कुछ मलाल नहीं
कई दिनों से मुझे भी तेरा ख़याल नहीं

5
बहरे मज़ारिअ मुसमन अख़रब
मकफूफ़ मकफूफ़ महज़ूफ़
मफ़ऊलु फ़ाइलातु मुफ़ाईलु फ़ाइलुन
221 2121 1221 212

उदाहरण
क़िस्मत को ये मिला तो मशक़्क़त को वो मिला
इस को मिला ख़ज़ाना उसे चाभियाँ मिलीं

6
बहरे मुतकारिब मुसद्दस सालिम
फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन
122 122 122

उदाहरण
कहानी बड़ी मुख़्तसर है
कोई सीप कोई गुहर है

7
बहरे मुतकारिब मुसमन सालिम
फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन
122 122 122 122

उदाहरण
वो जिन की नज़र में है ख़्वाबेतरक़्क़ी
अभी से ही बच्चों को पी. सी. दिला दें

8
बहरे मुतक़ारिब मुसम्मन मक़्सूर
फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़उल
122 122 122 12

उदाहरण
इबादत की किश्तें चुकाते रहो
किराये पे है रूह की रौशनी

9
बहरे मुतदारिक मुसद्दस सालिम
फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन
212 212 212

उदाहरण
सीढ़ियों पर बिछी है हयात
ऐ ख़ुशी! हौले-हौले उतर

10
बहरे मुतदारिक मुसम्मन अहज़ज़ु आख़िर
फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ा
212 212 212 2

उदाहरण
अब उभर आयेगी उस की सूरत
बेकली रंग भरने लगी है

11
बहरे मुतदारिक मुसम्मन सालिम
फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन
212 212 212 212

उदाहरण
जब छिड़ी तज़रूबे और डिग्री में जंग
कामयाबी बगल झाँकती रह गयी

12
बहरे रजज़ मख़बून मरफ़ू’ मुख़ल्ला
मुफ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ऊलुन मुफ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ऊलुन
1212 212 122 1212 212 22

उदाहरण
बड़ी सयानी है यार क़िस्मत, सभी की बज़्में सजा रही है
किसी को जलवे दिखा रही है, कहीं जुनूँ आजमा रही है

13
बहरे रजज़ मुरब्बा सालिम
मुस्तफ़इलुन मुस्तफ़इलुन
2212 2212

उदाहरण
ये नस्लेनौ है साहिबो
अम्बर से लायेगी नदी

14
बहरे रजज़ मुसद्दस मख़बून
मुस्तफ़इलुन मुफ़ाइलुन
2212 1212

उदाहरण
क्या आप भी ज़हीन थे?
आ जाइये – क़तार में

15
बहरे रजज़ मुसद्दस सालिम
मुस्तफ़इलुन मुस्तफ़इलुन मुस्तफ़इलुन
2212 2212 2212

उदाहरण
मैं वो नदी हूँ थम गया जिस का बहाव
अब क्या करूँ क़िस्मत में कंकर भी नहीं

16
बहरे रजज़ मुसम्मन सालिम
मुस्तफ़इलुन मुस्तफ़इलुन
मुस्तफ़इलुन मुस्तफ़इलुन
2212 2212 2212 2212

उदाहरण
उस पीर को परबत हुये काफ़ी ज़माना हो गया
उस पीर को फिर से नयी इक तरजुमानी चाहिये

17
बहरे रमल मुरब्बा सालिम
फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन
2122 2122

उदाहरण
मौत से मिल लो, नहीं तो
उम्र भर पीछा करेगी

18
बहरे रमल मुसद्दस मख़बून मुसककन
फ़ाइलातुन फ़इलातुन फ़ेलुन
2122 1122 22

उदाहरण
सनसनीखेज़ हुआ चाहती है
तिश्नगी तेज़ हुआ चाहती है

19
बहरे रमल मुसद्दस महज़ूफ़
फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन ,
2122 2122 212

उदाहरण
अजनबी हरगिज़ न थे हम शह्र में
आप ने कुछ देर से जाना हमें

20
बहरे रमल मुसद्दस सालिम
फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन
2122 2122 2122

उदाहरण
ये अँधेरे ढूँढ ही लेते हैं मुझ को
इन की आँखों में ग़ज़ब की रौशनी है

21
बहरे रमल मुसम्मन महज़ूफ़
फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन
2122 2122 2122 212

उदाहरण
वह्म चुक जाते हैं तब जा कर उभरते हैं यक़ीन
इब्तिदाएँ चाहिये तो इन्तिहाएँ ढूँढना

22
बहरे रमल मुसम्मन मख़बून महज़ूफ़
फ़ाइलातुन फ़इलातुन फ़इलातुन फ़ेलुन
2122 1122 1122 22

उदाहरण
गोया चूमा हो तसल्ली ने हरिक चहरे को
उस के दरबार में साकार मुहब्बत देखी

23
बहरे रमल मुसम्मन मशकूल सालिम मज़ाइफ़ [दोगुन]
फ़इलातु फ़ाइलातुन फ़इलातु फ़ाइलातुन
1121 2122 1121 2122

उदाहरण
वो जो शब जवाँ थी हमसे उसे माँग ला दुबारा
उसी रात की क़सम है वही गीत गा दुबारा

24
बहरे रमल मुसम्मन सालिम
फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन
2122 2122 2122 2122

उदाहरण
कल अचानक नींद जो टूटी तो मैं क्या देखता हूँ
चाँद की शह पर कई तारे शरारत कर रहे हैं

25
बहरे हज़ज मुसद्दस महजूफ़
मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन फ़ऊलुन ,
1222 1222 122

उदाहरण
हवा के साथ उड़ कर भी मिला क्या
किसी तिनके से आलम सर हुआ क्या

26
बहरे हज़ज मुसद्दस सालिम
मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन
1222 1222 1222

उदाहरण
हरिक तकलीफ़ को आँसू नहीं मिलते
ग़मों का भी मुक़द्दर होता है साहब

27
बहरे हजज़ मुसमन अख़रब
मक्फ़ूफ मक्फ़ूफ मक्फ़ूफ महज़ूफ़
मफ़ऊलु मुफ़ाईलु मुफ़ाईलु फ़ऊलुन
221 1221 1221 122

उदाहरण
आवारा कहा जायेगा दुनिया में हरिक सम्त
सँभला जो सफ़ीना किसी लंगर से नहीं था

28
बहरे हज़ज मुसम्मन अख़रब
मक़्फूफ़ मक़्फूफ़ मुख़न्नक सालिम
मफ़ऊलु मुफ़ाईलुन मफ़ऊलु मुफ़ाईलुन
221 1222 221 1222

उदाहरण
हम दोनों मुसाफ़िर हैं इस रेत के दरिया के
उनवाने-ख़ुदा दे कर तनहा न करो मुझ को

29
बहरे हज़ज मुसम्मन अशतर
मक़्फूफ़ मक़्बूज़ मुख़न्नक सालिम
फ़ाइलुन मुफ़ाईलुन फ़ाइलुन मुफ़ाईलुन
212 1222 212 1222

उदाहरण
ख़ूब थी वो मक़्क़ारी ख़ूब ये छलावा है
वो भी क्या तमाशा था ये भी क्या तमाशा है

30
बहरे हज़ज मुसम्मन अशतर, मक़्बूज़, मक़्बूज़, मक़्बूज़
फ़ाइलुन, मुफ़ाइलुन, मुफ़ाइलुन, मुफ़ाइलुन
212, 1212, 1212, 1212

उदाहरण
लुट गये ख़ज़ाने और गुन्हगार कोइ नईं
दोष किस को दीजिये जवाबदार कोई नईं

31
बहरे हज़ज मुसम्मन मक़्बूज़
मुफ़ाइलुन, मुफ़ाइलुन, मुफ़ाइलुन, मुफ़ाइलुन
1212, 1212, 1212, 1212

उदाहरण
गिरफ़्त ही सियाहियों को बोलना सिखाती है
वगरना छूट मिलते ही क़लम बहकने लगते हैं

32
बहरे हज़ज मुसम्मन सालिम
मुफ़ाईलुन, मुफ़ाईलुन, मुफ़ाईलुन, मुफ़ाईलुन
1222, 1222, 1222, 1222

उदाहरण1
बहारों फूल बरसाओ मेरा महबूब आया है।
हवाओं रागिनी गाओ मिरा (मेरा) महबूब आया है।।

बहारों फू  ल बरसाओ मेरा महबू   ब आया है।
1222     1222      1222     1222

हवाओं रा गिनी गाओ   मेरा महबू   ब आया है।।
1222    1222       1222      1222

उदाहरण 2
मुझे पहले यूँ लगता था करिश्मा चाहिये मुझको
मगर अब जा के समझा हूँ क़रीना चाहिये मुझको

1 – मुझे तेरी / मुहब्बत का / सहारा मिल / गया होता
2 – किसी पत्थर /की मूरत से /मुहब्बत का/ इरादा है
3 – चलो इक बा/र फिर से अज/नबी बन जा/एँ हम दोनों

अभ्‍यास ही गुरु

ग़ज़ल लेखन की प्रक्रिया में जब तक अभ्‍यास नहीं करेंगे, इसे अच्‍छे से नहीं समझ पाएंगे। जितना ज़्यादा अभ्‍यास करेंगे उतने ही सिद्धहस्‍त होंगे। इसलिए कहा गया है – ‘अभ्‍यास ही गुरु है।’ लिहाज़ा अभ्‍यास में बहर पर विशेष ध्‍यान दें। इस जानकारी के आधार पर आप अधिकाअधिक अभ्‍यास करें।

संकलन एवं प्रस्तुति -हरिगोविंद विश्वकर्मा

 

गीतकार अहमद वसी सुनाए कई रोचक संस्मरण

0

मुंबई, प्रतिष्ठित शायर एवं सिने गीतकार विविध भारती के पूर्व उद्घोषक मुहतरम अहमद वसी (Ahmed Wasi) ने संगीतकार ओपी नैयर को हिंदी सिनेमा के सबसे बेहतरीन संगीतकारों में से एक करार देते हुए कहा कि उन्होंने अपनी फीस से कभी भी समझौता नहीं किया। हां, उनके दौर में अगर कोई निर्माता अपनी फिल्म की नायिका अगर उनकी सबसे फेवरिट हिरोइन को बनाता तो वह जरूर अपनी फीस कम कर देते थे।

अहमद वसी रविवार की शाम चित्रनगरी संवाद मंच मुम्बई के साप्ताहिक आयोजन में बतौर ख़ास मेहमान उपस्थित शायरों, संगीतकारों, गायकों और साहित्यप्रेमियों से रूबर थे। एक प्रसंग का ज़िक्र करते हुए वसी साहब ने कहा कि ओपी नैयर अपनी फीस कभी भी कम नहीं करते थे। इसी कारण उनके हाथ से नमक हलाल और दास्तान जैसा बड़ी फिल्में निकल गई। एक प्रसंग का ज़िक्र करते हुए वसी साहब ने कहा कि ओपी नैयर सदाबहार अभिनेत्री मधुबाला के फैन थे और अगर कोई निर्माता मधुबाला को अपनी फिल्म में बतौर नायिका लेता था तो नैयर साहब फीस कम करने पर राजी हो जाते थे।

अहमद वसी ने बताया कि नमक हलाल के लिए ओपी नैयर का संगीत लेने के लिए निर्माता के साथ उनका होटल ताज में बैठक हुई। फीस कम करने का आग्रह करते हुए निर्माता ने कहा कि आपको अमिताभ बच्चन की फिल्म में संगीत देने का मौक़ा मिल रहा है। तो ओपी नैयर ने दो टूक शब्दों में कहा कि चाहे अमिताभ को लीजिए या किसी और अभिनेता को उन्हें कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता और वह अपनी फीस कम नहीं करेंगे और वह मीटिंग के बीच से ही उठ गए।

इसी तरह उन्होंने दास्तान फिल्म भी छोड़ दी थी। ओपी नैयर के संगीत निर्देशन में बतौर गीतकार अपना पहला गाना लिखने वाले अहमद वसी ने कहा कि ओपी साहब जिंदादिल इंसान थे। अनगिनत रोमांटिक गीतों को संगीत में ढालने वाले ओपी साहब हमेशा कहते थे कि गीत के अल्फाज जिंदा होने चाहिए न कि मुर्दा।

अब तक पांच किताबें लिख चुके प्रतिष्ठित शायर अहमद वसी ने अपनी चुनिंदा ग़ज़लें और नज़्मे सुना कर कार्यक्रम को गरिमा प्रदान की। “गहराइयों से मुझ को किसी ने निकाल के, फेंका है आसमान की जानिब उछाल के। हर शख़्स से मिला हूँ बड़ी एहतियात से, हर शख़्सिय्यत को मैं ने पढ़ा है सँभाल के।”

सीतापुर के मूल निवासी अहमद वसी साहब ने लखनऊ से लेकर मुंबई तक के अपने रचनात्मक सफ़र पर श्रोताओं के साथ बातचीत की। संगीतकार ओपी नैयर के साथ बतौर सिने गीतकार शुरुआत करने वाले वसी साहब ने ओपी नैयर किया, ख़य्याम और चित्रगुप्त से संबंधित कई रोचक अनुभव साझा किए। फ़िल्म ‘क़ानून और मुज़रिम’ में लिखा हुआ उनका गीत बेहद लोकप्रिय हुआ- शाम रंगीन हुई है तेरे आंचल की तरह। सुरमई रंग सजा है तेरे काजल की तरह।

इस गीत के प्रति संगीतकार सी अर्जुन की दीवानग़ी की दिलचस्प घटना उन्होंने सुनाई। बिहार से पधारे हुए वरिष्ठ गीतकार माधव पांडेय’ निर्मल’ ने इस अवसर पर भोजपुरी गीत ‘बेटी की विदाई’ सुना कर सबको भाव विह्वल कर दिया। तबस्सुम बरबरा, अंबिका झा, पूनम विश्वकर्मा और डॉ दमयंती शर्मा ने विविधरंगी कविताएं सुनाईं। कवि सुभाष काबरा के व्यंग्य लेख से कार्यक्रम का समापन हुआ।

इस अवसर पर डॉ बनमाली चतुर्वेदी, कवि राजेंद्र वर्मा, गीतकार रास बिहारी पांडेय, कवि अनिल गौड़, कवि अभिनेता अरुण शेखर, अभिनेता अविनाश प्रताप सिंह, कवि प्रदीप गुप्ता, कवि राजेश ऋतुपर्ण, पत्रकार चंद्रकांत जोशी, और संगीतकार उस्ताद वजाहत हुसैन ख़ान ने अपनी मौजूदगी से आयोजन की गरिमा बढ़ाई।

इसे भी पढ़ें – कभी बहुत हॉट था ओपी नैयर और आशा भोंसले का रोमांस

संगीत साधना है, रियाज का कोई विकल्प नहीं – पंडित श्यामरंग शुक्ल

0

भारतीय शास्त्रीय संगीत वेदों से निकली विधा मानी जाती है। सामवेद में तो संगीत की विस्तृत से चर्चा है। संगीत का आरंभ जीवन के अंतिम लक्ष्य ‘मोक्ष’ के साधन के रूप में हुई। इसकी महत्ता इस बात से भी स्पष्ट हो जाती है कि भारतीय आचार्यों ने इसे ‘पंचम वेद’ और ‘गंधर्व वेद’ की संज्ञा दी है। भरतमुनि का ‘नाट्यशास्त्र’ भारतीय संगीत इतिहास का प्रथम लिखित ग्रंथ माना जाता है। भारतीय संगीत को वैज्ञनिक दृष्टिकोण से भी सही माना जाता है। भारतीय शास्त्रीय संगीत की साख़ पूरी दुनिया में है, क्योंकि यह आध्यात्मिकता से ख़ासा प्रभावित रहा है। अतीत में कई भारतीय संगीत मर्मज्ञों ने अपनी संगीत साधना से शास्त्रीय संगीत को वैश्विक बुलंदी पर पहुँचाया। भारतीय शास्त्रीय संगीत की उसी परंपरा के प्रतिनिधि हैं पंडित श्यामरंग शुक्ल (Pandit Shyamrang Shukla) उर्फ गुरुजी, जो आजीवन संगीत की शिक्षा का दान करते रहे।

इसे भी पढ़ें – ठुमरी क्वीन शोभा गुर्टू – नथनिया ने हाय राम बड़ा दुख दीन्हा…

संगीत को लेकर एकदम नई सोच रखने वाले गुरुजी हमारी परंपराओं के विरोधी भी नहीं हैं। बल्कि वह इतना ज़रूर कहते हैं कि हमारी गौरवशाली परंपराओं और विरासतों को आगे बढ़ाने की ज़रूरत है। साथ ही साथ संगीत के क्षेत्र में निरंतर हो रहे बदलाव को स्वीकार करके उसके साथ चलने की कोशिश करने की भी ज़रूरत है। इतना वह ज़रूर कहते हैं कि परंपराओं के नाम पर किसी तरह के पलायन का बेशक मुख़ालफ़त की जानी चाहिए। गुरुजी के पिता गायनाचार्य पंडित राजाराम शुक्ल गुसाईं घराने के अग्रणी संगीत मर्मज्ञ थे। इसलिए कालांतर में गुरुजी भी गुसाईं घराने के सच्चे प्रतिनिधि बन गए। वस्तुतः घराना, भारतीय शास्त्रीय संगीत की वह परंपरा है जो एक ही श्रेणी की कला को कुछ विशेषताओं के कारण दो या अनेक उपश्रेणियों में बाँटती है। गुसाईं घराना भारतीय शास्त्रीय संगीत और गायन की हिंदुस्तानी ख़याल गायकी की परंपरा को वहन करने वाले प्रमुख हिंदुस्तानी घरानों में से एक है।

गुसाईं घराने का नामकरण बीसवीं सदी में किया गया। गुरुजी के पिता गुसाईं घराने और गुसाईं संगीत शैली को नई ऊँचाइयों पर लेकर गए। इसीलिए उन्हें गुसाईं घराना परंपरा का सबसे दक्ष संगीत मनीषी कहा जाता है, क्योंकि संगीत उनके रोम-रोम में समाया था। इतना ही नहीं अपने दौर में वह गुसाईं घराने के साथ साथ भारतीय शास्त्रीय परंपरा के सर्वाधिक महत्वपूर्ण भारतीय संगीतज्ञ माने जाते थे। वह संगीत की बारीक़ियों को बहुत बेहतरीन ढंग से समझाते थे। वह शास्त्रीय संगीत विधा से जन-जन से अवगत कराने और यह हुनर अगली पीढ़ी तक पहुंचाने के ख़्वाहिशमंद थे। इसी मकसद से उन्होंने अपने जीते जी संगीत, राग और धुन की अलग-अलग विधाओं पर पांच-पांच क़िताबों की पांडुलिपि तैयार कर ली थी। लेकिन उनकी अब तक केवल एक किताब ही प्रकाशित हो सकी है। बाक़ी पांडुलिपियाँ जस की तस रह गई हैं। अब गुरुजी ख़ुद अपने पिताश्री के बाक़ी क़िताबों को प्रकाशित करने के अभियान में जुटे हुए हैं। पिता की दूसरी पुस्तक शीघ्र ही प्रकाशित होने की संभावना है।

इसे भी पढ़ें – मुंबई में जो भी आया, यह शहर उसी का हो गया..

जौनपुर के बदलापुर तहसील से कुछ दूर सुरतान गांव में जन्में गुरुजी पर महज पाँच वर्ष की आयु में सारेगमपधनी रटने की धुन सवार हो गई। बाल्यकाल में ही उनके व्यक्तित्व में संगीत की असाधारण प्रतिभा के संकेत दिखने लगे थे। इसीलिए मर्मज्ञ संगीताकार पिता दस वर्ष की आयु में ही बेटे को मौसिकी की तालीम देने लगे। किशोरावस्था में ही गुरुजी हारमोनियम और तबला को पूर्ण अधिकार के साथ बजाने लगे थे। गुरुजी कहते हैं, “मैंने बचपन से ही संगीत की तालीम लेनी शुरू कर दी थी। चूंकि मेरे पिता गयानाचार्य पंडित राजाराम शुक्ल शास्त्रीय संगीत के शिखर पुरुष थे, इसलिए मुझे घर में ही ऐसा माहौल मिला था जिसने मेरे अंदर गायन के प्रति रुचि बढ़ाई। मेरे पिता ही मेरे संगीत गुरु भी हैं। मैंने उनसे ही इस कला की तालीम ली।” बहरहाल, गांव के पास के कॉलेज से ही बारहवीं करने के बाद स्नातक की पढ़ाई के लिए जौनपुर के तिलकधारी कॉलेज में एडमिशन ले लिया। बेटे के अंदर संगीत की ललक देखकर पिताश्री ने बीए में तबला वादन की एक विषय के रूप में लेने की नसीहत दी और उस्ताद ने दूसरा और तीसरा विषय संस्कृत और अंग्रेज़ी साहित्य लिया।

इसे भी पढ़ें – मृत्यु को संगीतमय तीर्थयात्रा का अंत नहीं मानते थे पंडित जसराज

गुरुजी के संगीतकार पिता उन दिनों गिरगांव चौपाटी में रहा करते थे। बस क्या था टीडी कॉलेज में ग्रेजुएशन फाइनल ईयर की परीक्षा देने के बाद काशी एक्सप्रेस से देश की आर्थिक राजधानी मुंबई पहुंच गए और पिता जी के सानिध्य में संगीत का बारीक़ियाँ सीखने लगे। उसी दौरान संगीत से स्नातकोत्तर किया और इंदिरा कला संगीत विश्वविद्यालय, खैरागढ़, छत्तीसगढ़ से ‘कजरी, चैती और पूर्वी लोकगीतों का संगीत पक्ष’ विषय पर पीएचडी शुरू किया। उनकी थीसिस बेहद पसंद की गई और वह श्यामरंग शुक्ल से डॉ. श्यामरंग शुक्ल हो गए। पीएचडी करते ही केंद्रीय विद्यालय में अध्यापक की नौकरी मिल गई। केंद्र सरकार की नौकरी मिलने के बाद संगीत अध्यापक के रूप में पहली पोस्टिंग रायगड़ ज़िले के उरण के पास करंजा कस्बे में हुई और बच्चों को संगीत की तालीम देने लगे।

कुछ साल बाद करंजा से मुंबई के कोलाबा केंद्रीय विद्यालय में ट्रांसफऱ हो गया। कुलाबा 20 साल तक रहे। उन दिनों यहाँ जनसत्ता के तत्कालीन स्थानीय संपादक राहुल देव से मुलाकात हुई। राहुल देव ने उनसे जनसत्ता के लिए संगीत समीक्षा और संगीत की गतिविधियों पर लिखने का आग्रह किया। गुरुजी का कॉलम इतना पढ़ा जाने लगा और इतनी चिट्ठियां आने लगीं कि सप्ताह में तीन-तीन लेख छपने लगे। इसके अलावा जनसत्ता की साप्ताहिक पत्रिका सबरंग और सांध्य संस्करण संझा जनसत्ता में भी लिखने लगे। इस दौरान संगीत पर उन्होंने हज़ारों लेख लिख डाले। बहरहाल, लेखन का सिलसिला बहुत लंबे समय तक चलता रहा। बीच में गुरुजी का तबादला असम कर दिया गया। बहरहाल, विशेष आग्रह पर उनका तबादला टल गया और उन्हें कच्छ के एक केंद्रीय विद्यालय में नियुक्ति दी गई। संयोग से गुरुजी उसी समय कच्छ पहुँचे जब वहां महाविनाशकारी भूकंप आया था। कच्छ की धरती के हिलने के बाद वहां का भयावह मंजर का याद करके वह आज भी सिहर उठते हैं। गुजरात में दो साल तक रहे। अंत में दस साल लोनावला में भी अध्यापन कार्य किया।

इसे भी पढ़ें – राजकुमारी कौल के प्रति वाजपेयी की मोहब्बत व वफादारी सदैव अटल रही

दरअसल, गुरुजी की ख़ासियत यह है कि वह अपने शिष्यों की आवाज़ को निखार देते हैं। गले को किस तरह से ठीक और सुरीला बनाए रखें, इसकी टिप्स वह बहुत बढ़िया देते हैं। केवल पांच मिनट सुर लगवा कर वह गले को सामान्य कर देते हैं। यह जादू जैसा हुनर है, जिसका अनुभव उनके सानिद्य में सुर साधने वाले साधक ही कर सकते हैं। उनकी ख़ासियत यह है कि हाई पिच पर भी वह कंट के माधुर्य को बरक़रार रखवाते हैं। मंद्र सप्तक से लेकर तार सप्तक तक छू सकते हैं। जब वह सुर लगवाते हैं तो ध्यान से सीखने वाले शिष्य को सीखने को लिए बहुत कुछ मिलता है। इससे आवाज़ की बारीक़िया सीखने को मिलती है। कंठ को और सुरीला बनाने में मदद मिलती है।

इसे भी पढ़ें – लोकगीत कजरी – पिया मेंहंदी मंगा द मोतीझील से, जाइके सायकिल से ना…

गुरुजी संगीत चिकित्सा से डिप्रेशन का इलाज भी करते रहे हैं। वह कहते हैं, “संगीत मन ही नहीं शरीर पर गहरा असर डालता है। ऐसे में इसका असर शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ना लाजिमी है। संगीत चिकित्सा यानी म्यूज़िक थेरेपी में एक ख़ास तरह का म्यूज़िक उपयोग में लाया जाता है। मरीज को संगीत सुनाने पर संगीत की तरंगों का संपर्क उसके शरीर से होता है। कंपन धीरे-धीरे शरीर में प्रवेश करते हैं। इससे शरीर और दिमाग़ भी कंपित होने लगते हैं। कंपन की वजह से उस ख़ास अंग और उसके आसपास सक्रियता बढ़ जाती है। उन वहां ब्लड सर्क्यूलेशन सामान्य होने लगता हैं। ज़्यादा ब्लड और ऑक्सीजन उस ख़ास अंग पर सकारात्मक असर डालता है और उसकी हीलिंग शुरू हो जाती है। इस प्रॉसेस में शरीर शिथिल होने लगता है जिससे आराम मिलता है।”

वह कहते हैं कि एक ही फ्रीक्वेन्सी की ध्वनि तरंगों का इस्तेमाल विभिन्न प्रकार की शारीरिक समस्याओं को दूर करने के लिए होता है। अच्छे और सुर में गाने वाले का गायन सुनकर मन को सुकून मिलता है। शरीर का ब्लड प्रेशर और दिल की धड़कन सामान्य हो जाती है। इसलिए अच्छे गायक हीलिंग का कार्य करते हैं। म्यूज़िक का ज़्यादातर प्रभाव मानसिक अवस्था पर पड़ता है। यह थेरेपी अल्टरनेट थेरेपी है। आधुनिक युग में म्यूज़िक थेरेपी एक अच्छा विकल्प बन कर उभर रहा है। तभी तो इस थेरेपी का उपयोग अब कई अस्पतालों में भी होने लगा है। म्यूज़िक कैंसर, पार्किंसंस, अवसाद, अन्य मानसिक समस्या जैसी कई असाध्य बीमारियों को ठीक करने में कारगर साबित हुआ है।

इसे भी पढ़ें – राम भजन की सीरीज पर काम कर रही हैं पूनम विश्वकर्मा

गुरुजी शुरू से बेहद सक्रिय रहे हैं। अब भी उनसे संगीत सीखने वालों का तांता लगा रहता है। सुर तो सात ही है, लेकिन उन सात सुरों को कैसे साधा जाए, यह गायक या उसे संगीत की तालीम देने वाले उस्ताद पर निर्भर करता है। अब तक दो सौ से अधिक गीतों को कंपोज़ कर चुके गुरुजी कहते हैं कि संगीत को करियर बनाने वालों को शास्त्रीय संगीत साधना है। इसमें कामयाबी के लिए कोई शॉर्टकट नहीं है। जो भी इस कला में पारंगत होना चाहता है तो उसे रियाज़ करना ही होगा और धैर्य से रियाज़ करना ही होगा।

लेखक – हरिगोविंद विश्वकर्मा